सिंहमहेश्वर मंदिर में फिर कटे चंदन के पेड़

0
चोरो ने पाँचवी बार पार किया बेसकीमती चंदन
हमीरपुर। यमुना-बेतवा के संगम पर स्थित सिंहमहेश्वर मंदिर से शनिवार की रात चोर चंदन का पेड़ काटकर ले गए। दूसरे पेड़ की एक डाल काटी लेकिन उसे मौके पर ही छोड़कर फरार हो गए। मंदिर परिसर के अंदर से इस तरह चंदन के पेड़ चोरी की घटना लोगों के गले नहीं उतर रही है। सूचना मिलने पर कोतवाली पुलिस ने घटना स्थल का मुआयना किया है। पेड़ को इलेक्ट्रॉनिक मशीन से काटे जाने की आशंका है।
मेरापुर में यमुना नदी किनारे स्थित सिंहमहेश्वर मंदिर लोगों की आस्था का प्रमुख केंद्र है। मंदिर के आसपास अक्सर अराजक तत्वों का भी जमावड़ा रहता है, जो अक्सर मंदिर की संपत्ति को नुकसान पहुंचाते हैं। शनिवार की रात ऐसे ही तत्वों ने मंदिर परिसर के अंदर लगे बेशकीमती चंदन के पेड़ों को निशाना बनाया। ऐसा पहली बार नहीं हुआ, इससे पूर्व भी चार बार यहां लगे चंदन के पेड़ चोरी किए जा चुके हैं।
मंदिर के महंत सतीश दास ने बताया कि देर रात अराजकतत्व मंदिर के अंदर लगे चंदन के एक पेड़ को बिल्कुल नीचे से काटकर ले गए। दूसरे पेड़ की एक शाख को काटकर जमीन में गिरा दिया, लेकिन मंदिर में रहने वाले साधु-संतों के जाग जाने की वजह से चोर मौके से फरार हो गए। महंत ने बताया कि पूर्व में चार बार अज्ञात चोरों द्वारा चंदन के पेड़ों की चोरी की जा चुकी है। इसके पश्चात आज पांचवीं बार भी अज्ञात चोरों ने चंदन के पेड़ की कटाई कर चोरी की घटना को अंजाम दिया है। महंत ने कोतवाली में तहरीर दी है। मेरापुर के लोगों का कहना है कि मंदिर बस्ती से दूर एकांत स्थल पर है, जहां अक्सर अराजकतत्वों की आवाजाही होती रहती है। पुलिस से ऐसे तत्वों के विरुद्ध कार्रवाई की मांग की गई है। कोतवाली पुलिस चंदन के पेड़ों की चोरी की घटना के खुलासे में लगी हुई है।

Warning: A non-numeric value encountered in /home/convbkxu/bundelkhandkhabar.com/wp-content/themes/Newspaper/includes/wp_booster/td_block.php on line 352

LEAVE A REPLY