शिव मन्दिर पर धूमधाम से हुआ रूक्मणी विवाह, फूलों की हुई वर्षा

रुक्मणि विवाह प्रसंग पर झूम उठे श्रद्धालु

0

ललितपुर। शहर के इलाईट चौराहा के पास स्थित शिव मंदिर के पावन स्थान पर धर्म की गंगा बह रही है।

वृन्द्रावनधाम से पधारे कथा वाचक पं.जयनारायण शास्त्री की मधुर वाणी से रोजाना दोपहर 1 बजे से 4 बजे तक दिव्य संगीतमय श्रीमद भागवत कथा श्रद्धालुओं को रसपान करने को मिल रही है। आज रुक्मणि विवाह प्रसंग का विस्तार से वर्णन किया गया, जिसे सुनकर श्रद्धालु झूम उठे।

कथा वाचक पं. जयनारायण शास्त्री ने कहा कि मनुष्य गृहस्थी के कार्यों में इतना उलझ जाता है कि वह भगवान के लिये समय ही नही निकाल पाता। जीवन की आपाधापी में मनुष्य ईश्वर से दूर होता जा रहा है जो अच्छी बात नहीं है। धर्म से विमुख रहकर कोई भी व्यक्ति सुखमय जीवन व्यतीत नहीं कर सकता। उन्होंने आगे कहा कि जहां पुण्य है वहां पाप जरुर होगे जहां दिन है वहां रात जरुर आयेगी। वर्तमान समय में पाप बढऩे की बाते कही जाती है लेकिन पाप तो सतयुग, द्वापरयुग और त्रेत्रा युग में भी होते थे गीता में अर्जुन को ज्ञान देते हुये भगवान श्रीकृष्ण ने कहा था कि एक दिन सबका अन्त होना है इसलिये हमे पछताना नहीं चाहिये ईश्वर से सच्चे मन से जो भी मागो उसकी हर कामना पूरी होती है

कथा के दौरान श्रद्धालुओं ने सुमधुर भजनों पर नृत्य करते हुये फूलों की वर्षा की भगवान के रूप में स्वरुपों को सजाया गया स्वरूपों में मीठी संज्ञा श्री कृष्ण और ब्रन्द्रा नामदेव रूक्मणी बनी हुई थी जैसे ही भगवान के स्वरूपो की दिव्य छटा श्रद्धालुओं को दर्शन करने को मिली तो श्रद्धालु भगवान के दर्शन पाकर कृतार्थ हो उठे फिर सभी श्रद्धालुओं ने भगवान के चरण पखारे कथा के पारीक्षत रूपसिंह यादव बने हुये है दिव्य संगीतमय श्री मद भागवत कथा समस्त मुहल्ले वासियों के सहयोग से हो रही है दिव्य संगीतमय श्री मद भागवत कथा रोजाना दोपहर 1 बजे से 4 बजे तक आयोजित की जा रही है दिनांक 4 मार्च को हवन पूजन के साथ दिव्य संगीतमय श्री मद भागवत कथा का समापन किया जायेगा

संगीतमय श्री मद भागवत कथा के इस धार्मिक कार्यक्रम में श्रद्धालु बढ़ चढ़ कर भाग ले रहे है इस दौरान कृष्णा परशु परिहार, जसवन्त परिहार कक्का, शिवम परिहार, सनत परिहार, अरविन्द गुप्ता, मनोज नामदेव, राहुल कुशवाहा, रोहित राठौर, बन्टी दुबे, विजय कुशवाहा, सोनू पाठक, वीरेन्द्र शेखावत, धर्मराजा बुन्देला, रवि राजा, कृष्णा विश्वकर्मा,  रोहित शुड़ेले, दिनेश राठौर, अभिषेक नामदेव, रानू मैट्रो, शैलेंद्र परिहार, प्रकाश परिहार, विजय राय, अजय राय, पारस , आभा यादव, सुमन संज्ञा, कुसुम यादव, पिंकी गुप्ता, शुशमा नामदेव, रेखा पाण्डेय, प्रभा यादव, सुमित्रा शेखावत, सरोज समाधियां, राकेश देवीजाट, मक्खन साहू, विराशा राठौर, मुन्नी विश्वकर्मा, गायत्री पाण्डेय, शकुंतला सुड़ेले, सरिता साहू, देवेन्द्र राय आदि का विशेष सहयोग प्राप्त हो रहा है।


Warning: A non-numeric value encountered in /home/convbkxu/bundelkhandkhabar.com/wp-content/themes/Newspaper/includes/wp_booster/td_block.php on line 352

LEAVE A REPLY