दिव्य संगीतमय श्रीमद भागवत कथा का हुआ समापन

कथा के समापन अवसर पर कथा व्यास को सम्मानित करते श्रोता

0

ललितपुर। शहर के इलाईट चौराहा के पास स्थित शिव मन्दिर के पावन स्थान पर चल रही दिव्य संगीतमय श्रीमद भागवत कथा में वृन्द्रावनधाम से पधारे कथा वाचक पं.जयनारायण शास्त्री की मधुर वाणी से दिव्य संगीतमय श्रीमद भागवत कथा श्रद्धालुओं को रसपान करने को मिली श्रद्धालुओं ने कथा वाचक पं.जयनारायण शास्त्री को माला पहनाकर स्वागत किया। फिर श्रद्धालुओं ने श्रीमद भागवत पुराण की आरती की।

कथा वाचक ने समापन दिवस पर सुदामा चरित्र पर प्रकाश डालते हुये कहा कि सुदामा संसार का सबसे अनोखा भक्त है। वह जीवन से जितने गरीब है मन से उतने ही धनवान थे। उन्होंने अपने सुख दुख भगवान की इच्छा पर सौंप दिये थे। कथा में पारीक्षत बनने का सौभाग्य रूपसिंह यादव को मिला। दिव्य संगीतमय श्रीमद भागवत कथा में पैड पर केहर सिंह राजपूत, आरगिन पर सोनू विश्वकर्मा, ढोलक पर दीपक ने संगत देकर श्रोताओं को खूब मंत्रमुग्ध किया कथा समापन के बाद सभी श्रद्धालुओं को प्रसाद वितरण किया गया। 4 मार्च को बड़े ही विधी विधान से पं.जयनारायण शास्त्री द्वारा हवन पूजन कराया जायेगा और भण्डारा होगा।

इस धार्मिक कार्यक्रम को सफल बनाने में कृष्णा परशु परिहार, जसवन्त परिहार कक्का, शिवम परिहार, सनत परिहार, अरविन्द गुप्ता, मनोज नामदेव, राहुल कुशवाहा, रोहित राठौर, बन्टी दुबे, विजय कुशवाहा, सोनू पाठक, वीरेन्द्र शेखावत, धर्मराजा बुन्देला, रवि राजा, कृष्णा विश्वकर्मा, रोहित शुड़ेले, दिनेश राठौर, अभिषेक नामदेव, रानू मैट्रो, शैलेंद्र परिहार, प्रकाश परिहार, विजय राय, अजय राय, पारस, आभा यादव, सुमन संज्ञा, कुसुम यादव, पिंकी गुप्ता, सुषमा नामदेव, रेखा पाण्डेय, प्रभा यादव, सुमित्रा शेखावत, सरोज समाधियां, राकेश देवीजाट, मक्खन साहू, विराशा राठौर, मुन्नी विश्वकर्मा, गायत्री पाण्डेय, शकुंतला सुड़ेले, सरिता साहू, देवेन्द्र राय आदि का विशेष सहयोग रहा है।


Warning: A non-numeric value encountered in /home/convbkxu/bundelkhandkhabar.com/wp-content/themes/Newspaper/includes/wp_booster/td_block.php on line 352

LEAVE A REPLY