B’day Special: अखिलेश यादव के 45वें जन्मदिन को इन नेताओं ने बनाया खास

0
केक काटते हुए सपा नेता।

राम नरेश यादव

झांसी. समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष व उत्तर प्रदेश के पूर्व सीएम अखिलेश यादव का रविवार यानिकि 1 जुलाई को 45वां जन्मदिन है। उनके जन्मदिन को लेकर वीरांगनाओं की धरती पर व्यापक तैयारियां की गईं थीं। सपाईयों ने जन्मदिन पर काटा केक…

-EX एमएलए दीपनारायण सिंह यादव ने बताया, पूर्व सीएम अखिलेश यादव के जन्मदिन पर शहर के अस्पतालों में मरीजों को फल वितरण, रक्तदान, गरीबों को भोजन कराने जैसे कार्यक्रमों का आयोजन किया गया है।

 

चंद्रपाल सिंह यादव Ex एमएलए दीपनारायण सिंह को केक खिलाते हुए।
चंद्रपाल सिंह यादव Ex एमएलए दीपनारायण सिंह को केक खिलाते हुए।

 

-अखिलेश के जन्मदिन पर पूरे यूपी में सपा नेता व कार्यकर्ता पौधरोपण करेंगे। निर्देश है कि सपा का हर कार्यकर्ता प्रदेश भर में कम से कम 5 वृक्ष लगाए। शहर के इलाइट चौराहे पर सांसद चंद्रपाल सिंह ने पार्टी वर्कर्स के साथ केक काटकर अपने राष्ट्रीय अध्यक्ष का जन्मदिन मनाया। इस मौके शकील खान सहित कई कार्यकर्ता मौजूद रहे।

-बता दें कि, पिछले साल भी अखिलेश यादव का जन्मदिन काफी धूमधाम से मनाया गया था। सपा के तमाम कार्यकर्ताओं ने यूपी के लगभग हर जिले में उनके जन्मदिन का केट काटा था और गरीबों में फल एवं मिष्ठान का वितरण किया था।

बचपन का टीपू कैसे यूपी की सियासत का राजा बना

-करीब तीन दशक पुरानी बात है, पेड़ पर चढ़ा एक लड़का अपनी चाची के सामने अड़ गया कि जब तक उसे टॉफी नहीं मिलेगी, वह पेड़ से नीचे नहीं उतरेगा. ये लड़का कोई और नहीं बल्कि देश के सबसे बड़े राजनीतिक परिवार का चश्म-ओ-चिराग है.

-बचपन में लोग उसे टीपू बुलाते थे लेकिन आज संविधान से लेकर संसद के गलियारों तक दुनिया उन्हें अखिलेश यादव के नाम से जानती है. जिन चाची के सामने वह अपने बचपन में टॉफी के लिए अड़ गए थे, वह कोई और नहीं बल्कि उनके चाचा शिवपाल सिंह यादव की पत्नी सरला यादव थीं. हालांकि आज शिवपाल और उनके परिवार से अखिलेश के रिश्ते बहुत मधुर नहीं हैं.

-आज यानी 1 जुलाई को उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव का जन्मदिन है. बचपन का टीपू कैसे यूपी की सियासत का राजा बना और कैसे इस राजा की कुर्सी पर परिवार और पार्टी के कुछ नेताओं की नजर लगी, यह एक दिलचस्प और विवादों से भरी कहानी है.

-अखिलेश यादव उर्फ टीपू का जन्म 1 जुलाई, 1973 को यूपी के इटावा जिले में एक छोटे से गांव सैफई में हुआ. यह वही सैफई है जहां हर साल एक रंगारंग कार्यक्रम होता था और फिल्मी जगत की मशहूर हस्तियां अपनी कलाकारी का हुनर दिखाकर लाखों रुपए कमाकर ले जाती थीं. सैफई महोत्सव में बड़े-बड़े नेताओं और बिजनेसमैनों का जमावड़ा लगता था.

-एक कहावत थी कि हिंदुस्तान की मशहूर हस्तियों का मेला देखना हो तो मुलायम सिंह के गांव में होने वाला सैफई महोत्सव देखना चाहिए. हालांकि पिछली बार इस महोत्सव को पारिवारिक और राजनीतिक विवादों की वजह से रद्द कर दिया गया था


Warning: A non-numeric value encountered in /home/convbkxu/bundelkhandkhabar.com/wp-content/themes/Newspaper/includes/wp_booster/td_block.php on line 352

LEAVE A REPLY