रेत माफिया द्वारा राइफल ताने जाने से आहत महिला IAS ने गिरफ्तारी के दिए निर्देश

छतरपुर। मध्य प्रदेश के बुन्देलखण्ड में खनन माफिया सरकार के संरक्षण में बेखौफ हो गया है। नर्मदा नदी के बाद बुन्देलखण्ड अवैध खनन के कारोबार की सबसे बड़ी जगह बन गई है, जहां माफिया खनन रोकने पहुंचने वाले आईएएस अफसरों पर भी बंदूक तानकर खदेडऩे में पीछे नहीं हट रहे। बुधवार को ताजा मामला छतरपुर जिले का है। यहां माइनिंग माफिया के खिलाफ चलाई जा रही मुहिम के दौरान महिला आईएएस पर रायफल तान दी गई। महिला आईएएस अफसर की सुरक्षा में लगी मध्यप्रदेश सरकार की पुलिस के सामने ही माफिया ने महिला अफसर के सीने पर रायफल तान दी। यहां माफिया की धमकी से शिवराज सरकार पुलिस के जवान कांपते रहे और वह महिला आईएएस के साथ सरेआम अभद्रता कर बालू से भरा ट्रैक्टर छुड़ाकर भाग गया। महिला आईएएस ने इसकी शिकायत संबंधित थाने में की है, जिसके बाद पुलिस आरोपी की तलाश में जुट गई है।

यह है पूरा घटनाक्रम-
दरअसल, महिला आईएएस सोनिया मीणा राजनगर की एसडीएम के रूप में प्रशिक्षु के तौर पर तैनात हैं। सरकारी प्रक्रिया में प्रशिक्षण का समय पूर्ण होने के बाद उन्हें किसी भी जिले में कलेक्टर की जिम्मेदारी संभालनी है। बुधवार को प्रशिक्षु आईएएस सोनिया मीणा रेत की खदानों की चेकिंग के लिए भ्रमण पर थीं। भ्रमण के दौरान ही शाम 4 बजे बमीठा थाने से कुछ दूरी पर उन्हें रेत से भरा ट्रैक्टर जाते दिखा। सोनिया ने ट्रैक्टर रुकवाया। ट्रैक्टर चालक से रेत खनन के प्रपत्र मांगे तो वह नहीं दिखा सका। पूछताछ के बाद उसे थाने ले जाने को कहा गया। ट्रैक्टर पर एक नगर सेवक भगवंत सिंह को बिठा दिया गया।

ट्रैक्टर चालक ने महिला आईएएस पर तानी रायफल
बताया गया कि आईएएस सोनिया ने जैसे ही सुरक्षा में लगे नगर सेवक को ट्रैक्टर पर बिठाया, ड्राइवर अर्जुन सिंह बुंदेला ने फौरन उनके सीने पर रायफल तान दी। रायफल तानते ही वह घबरा गईं। उन्होंने सुरक्षा में लगे जवानों को इशारा किया, लेकिन रायफल ताने खड़े माफिया को रोकने की बजाय उनकी भी घिघ्घी बनी रही। यहां रेत माफिया की निडरता की पराकाष्ठा इतनी रही कि उसने न सिर्फ महिला आईएएस को धमकाया बल्कि इस दौरान गलत शब्दों का इस्तेमाल कर उनके साथ अभद्रता भी की। इसके बाद वह नगर सेवक को ट्रैक्टर के नीचे उतारकर ट्रैक्टर लेकर चला गया। घटना के बाद महिला आईएएस थाने पहुंचीं। मामले की जानकारी मिलते ही टीआई एसपी सिंह सिसौदिया, एसडीओपी इसरार अंसारी भी थाने पहुंच गए।

सुरक्षाकर्मियों के पास नहीं थे हथियार
नगर सेवक ने कहा कि उनके पास हथियार नहीं थे, इसलिए वो कुछ नहीं कर सके। यह भी एक शर्मनाक पहलू है। एक आईएएस अफसर रेत माफिया के खिलाफ अभियान चला रही है और उसकी सुरक्षा में पुलिस तक नहीं रहती। जो नगर सेवक उसकी सुरक्षा में हैं उनके पास रायफल तक नहीं रहती।

आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज
पुलिस ने आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। पुलिस का कहना है कि वह आरोपी को खोज रही है। जल्द ही उसे गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

आईएएस ने पुलिस से कहा, आरोपी को पकडि़ए और लाइसेंस निरस्त करिए
घटना के बाद थाने पहुंचीं महिला आईएएस सोनिया ने थाना पुलिस को पूरी घटना बताकर आरोपी के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि उसके खिलाफ केस दर्ज करें और उसका लाइसेंस भी निरस्त करने की कार्रवाई की जाए।
छतरपुर के एसपी ललित शाक्यवार ने कहा- एसडीएम को धमकाने और अभद्रता का मामला सामने आया है। मकदमा दर्ज करके मामले की जांच की जा रही है। जांच के बाद पुलिस कार्रवाई करेगी।

LEAVE A REPLY