घड़ी साबुन की फैक्ट्री में मजदूरों ने किया काम ठप, बोले- 2 महीने से नहीं मिला बेतन ‘हमारी हालत भिखारियों जैसी हो गई’

0
फोटो- प्रभात साहनी

झांसी. जनपद मुख्यालय से करीब 13 किलोमीटर दूर बनी घड़ी साबुन की फैक्ट्री में मजदूरों ने काम बंद कर दिया है। उनका आरोप है कि बीते 2 महीने से उन्हें सैलरी नहीं दी जा रही है। मजदूर कई घंटे तक फैक्ट्री के बाहर प्रदर्शन करते रहे।

नहीं निकला कोई सॉल्यूशन: प्रेमनगर थाना क्षेत्र स्थित घड़ी फैक्ट्री के बाहर प्रदर्शन कर रहे मजदूर राकेश बताते हैं, हम सभी को जब नौकरी पर रखा गया था तब 295 रुपए प्रति दिन के हिसाब से बजदूरी तय की गई थी। लेकिन कटौती करने के बाद हमें 250 रुपए के हिसाब से ही पैमेंट दिया जाता रहा और 8 घंटे की जगह हमसे 12 से 14 घंटे तक मजदूरी कराई गई।

मजदूरी मांगने पर दुत्कार दिया जाता था: इसी फैक्ट्री में काम कर रहे अन्य वर्कर अजय बताते हैं, हमें 2 महीने से मजदूरी नहीं दी गई और जब हमने मांगने की कोशिश की तो हमें दुत्कार कर भगा दिया जाता था। अब तो हमारी हालत भिखारियों की तरह हो गई। रिश्तेदारों से रुपए मांगकर पेट भरना पड़ता है। हमने कई बार इसकी शिकायत फैक्ट्री के बड़े अधिकारियों से की लेकिन उन्होंने भी हमारी कोई मदद नहीं की। जब हम पूरी तरह से परेशना हो गए तब कहीं जाकर यह कदम उठाया है और गुरुवार को सुबह से ही यहां काम ठप कर दया है।

क्या कहते है फैक्ट्री के मैनेजर?

घड़ी फैक्ट्री के मैनेजर अनुराग का कहना है, मजदूरों के द्वारा लगाए गए सभी आरोप गलत हैं। साथ ही बताया कि ऐसी कोई समस्या है तो मजदूरों के खाते में सीधे उनका बेतन ट्रांसफर कर दिया जाएगा। कई लोगों ने अपने आधार कार्ड नहीं दिए हैं। हम 7 अगस्त तक पूरी प्रकिया कर लेंगे।

LEAVE A REPLY