बुन्देलखण्ड के एक हिस्से में पानी, दूसरे में सूखा, MP में झमाझम, UP में क्यों रूठे हैं बादल

0
छतरपुर में बाढ़ के पानी से बच्चों को निकलते बचाव दल के सदस्य

@बुंदेलखंड खबर टीम – 

झांसी/सागर। दो राज्यों की सीमा में बंटे बुन्देलखण्ड का एक हिस्सा सूखा है तो दूसरे हिस्से में बारिश महरबान है। मध्य प्रदेश में जारी मूसलाधार बारिश में बुन्देलखण्ड के जिले भी पानी में तरबतर हैं, लेकिन उत्तर प्रदेश के सभी सात जिलों में बादल रूठे हैं। यहां या तो बारिश हुई नहीं है और हुई भी है तो बेहद मामूली।

बारिश के निर्धारित पैमाने से 20 फीसदी भी बारिश नहीं होना यहां भयानक सूखे का संकेत दे रहा है, यहां के बांध और नदियां अब मध्य प्रदेश की बारिश के बहाव की मोहताज हैं। राजघाट बांध में मध्य प्रदेश के पर्वतीय इलाकों से बहकर दस मीटर पानी पहुंचा है। यह रफ्तार जारी रही तो कम से कम बेतवा नदी उफान पर जरूर पहुंच सकती है। ये आधे बुन्देलखण्ड के किसानों को सिंचाई के लिए अमृत जैसी होगी।

भोपाल में भारी बारिश जारी है। बुन्देलखण्ड के दमोह, सागर और छतरपुर में भारी वर्षा से बाढ़ जैसे हालात भी बन गए हैं। यहां कई रिहायशी इलाकों में पानी ने लोगों का जीवन प्रभावित कर दिया। ये पानी बेतवा नदी से बहकर राजघाट में इकठ्ठा हो रहा है। एक सप्ताह के भीतर राजघाट बांध का लेबिल सोमवार तक 356 मीटर से बढक़र 366 तक पहुंच गया है। राजघाट बांध की क्षमता 371 मीटर की है। यानि राजघाटन को भरने के लिए अभी 5 मीटर और पानी की दरकार है।

रविवार की बात करें तो छतरपुर में बारिश से धसान नदी में उफान इसकदर था कि उसमें फंसे 10 को निकालने के लिए प्रशिक्षित गोताखोरों की टीम को लगाना पड़ा। सभी बच्चों को बचा लिया गया है। गुलगंज थाना क्षेत्र की ग्राम पंचायत पीरा के पास हटा घाट पर धसान काटन नदी के पास सभी बच्चे खेत में जामुन खाने गए थे और टापू पर फंस गए।

पिछले दिनों सागर में इतना पानी भर गया था कि वहां सेना को हेलीकॉप्टर से मदद के लिए भेजा गया था।

मौसम विभाग की चेतावनी
भोपाल में सोमवार सुबह से बारिश का दौर जारी है। मौसम विभाग ने प्रदेश के 20 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी दी है। मौसम विभाग ने अगले 24 घंटों में भोपाल, सागर गुना, रतलाम, मंडला, इंदौर, नरसिंहपुर, छिंदवाड़ा, होशंगाबाद, अशोकनगर, राजगढ़, रायसेन, सीहोर, छिंदवाड़ा, सिवनी, बालाघाट, मंडला, डिंडोरी एवं अनूपपपुर में भारी बारिश की चेतावनी दी है।

उत्तर प्रदेश के बुन्देलखण्ड में सूखा जैसे हालात
उत्तर प्रदेश के हिस्से वाले बुन्देलखण्ड के सभी सात जिलों में बारिश के पानी का इंतजार है। यहां बेहद कम बारिश हुई है। इस इलाके में अभी तक औसत से सिर्फ 20 फीसदी बारिश ही दर्ज की गई है। ललितपुर में 75 मिलीमीटर, झांसी में 378, जालौन में 124, बांदा में 290, चित्रकूट में 300, महोबा में 191 और हमीरपुर में 155 मिलीमीटिर बारिश दर्ज की गई है। यह औसत बारिश से बेहद कम है।

24 घंटे में कहां कितनी हुई बारिश-
बुन्देलखण्ड के सागर में 70.5, खजुराहो 63.4, छतरपुर 40.2, सतना 44.8, दमोह में 14.0 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई है।

 

LEAVE A REPLY