UP सरकार ने खुलवा दिये मंदिर- मस्जिद के ताले

UP सरकार ने खुलवा दिये मंदिर- मस्जिद के ताले

0
लखनऊ।  अनलॉक का पहला चरण कल से शुरू हो रहा है और इसके लिए व्यापक व्यवस्थाएं भी शुरू हो गयी हैं विशेषकर धार्मिक स्थलों में इसको लेकर उत्साह चरम पर है इस लिए हम कह सकते हैं कि दो माह के लम्बे अंतराल के बाद मंदिरों से शंख ध्वनि और मस्जिदों से अजान कल से सुनाई देना आरम्भ हो जाएगी | धार्मिक स्थलों को खोलने के लिए प्रशासन भी सतर्क दिखाई दे रहा है और यहाँ के प्रबंधकों को हर हाल में दिशानिर्देशों को पालन करने की अपील भी कर रहा है | जिसका असर होता दिखाई भी दे रहा है
उत्तर प्रदेश के सभी जिलों में मंदिरों में पूजा पाठ शुरू हो गई। झांसी समेत बुन्देलखण्ड के सभी प्रमुख मंदिर खुल गए।  बाराबंकी में 8 जून से मिलने वाली कुछ राहत से लोगों में काफी उत्साह है यह उत्साह धार्मिक स्थलों में पर भी देखा जा सकता है | यहाँ मन्दिर और मस्जिदों की साफ़ सफाई शुरू कर दी गयी है ताकि आदेश मिलते ही इन्हे खोला जा सके | मस्जिदों में नमाज पढ़ने के लिए साफ़ – सफाई और सोशल डिस्टेन्सिंग के साथ – साथ अन्य आवश्यक सावधानी का ध्यान रखने की बात मस्जिदों के अगुवाकार कर रहे हैं तो वहीँ मन्दिरों में भी इस बात का ध्यान रखा जारहा है कि आवश्यक दिशानिर्देशों का पालन सुनिश्चित कराया जा सके |
 मस्जिद के अगुवाकारों से जब हमने बात की तो उन्होंने बताया कि यहाँ साफ़ -सफाई और सोशल डिस्टेन्सिंग के साथ ही मास्क का उपयोग अनिवार्य कर दिया गया है और सभी से कहा गया है कि यदि मस्जिद में प्रवेश करना है रो मास्क लगा कर आये अन्यथा प्रवेश नहीं मिलेगा | मस्जिद में संख्या कम हो इसके लिए एक संख्या के निर्धारण के साथ प्रवेश मिलेगा जब वह संख्या नमाज पढ़कर निकल जाएगी तब अगली जमात को मौका दिया जायेगा | सभी को सावधानी बरतने के लिए जरुरी एलान किये गए है और हर रोज यह एलान मौलवियों के माध्यम से और ध्वनि विस्तारक यंत्रों के माध्यम से करवाया जाता रहेगा |
 मन्दिर में भी साफ़ – सफाई कर रहे यहाँ के पुजारियों से जब हमने बात की तो उन्होंने बताया कि सुना है कि शायद कल से मन्दिर खोला जाये इसके लिए साफ़ – सफाई का काम किया जा रहा है और जैसा निर्देश आएगा उसी के अनुसार मन्दिर की व्यवस्था का कार्य चलेगा
 बाराबंकी के पुलिस अधीक्षक डाक्टर अरविन्द चतुर्वेदी ने बताया कि धार्मिक स्थलों पर सुरक्षा तो रहेगी मगर उससे ज्यादा जरुरी है कि इनके प्रबंधक दिशा निर्देशों का पालन करवाएं और भीड़ न जमा होने दें | मन्दिर में भी समान्य रूप से मिलने वाला चरनामृत नहीं दिया जायेगा , टीका भी नहीं लगाया जायेगा , किसी तरह का स्पर्श भी नहीं होगा और साथ ही मन्दिर में बैठ कर मण्डली के द्वारा भजन का गायन नहीं होगा | सभी की जिम्मेदारी होगी कि वह दिशा निर्देशों का पालन करे।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY