जन साहस संस्था द्वारा विधि कानून को लेकर तीन दिवसीय कार्यशाला का...

जन साहस संस्था द्वारा विधि कानून को लेकर तीन दिवसीय कार्यशाला का आयोजान

तीन दिवसीय कार्यशाला में दी गयी विधि कानून की जानकारियां

0

ललितपुर। जन साहस संस्था द्वारा तीन दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया, जिसमे महिला हिंसा रोक थाम पर चर्चा की गयी। जन साहस का अर्थ है लोगों का साहस। यह संस्था भारत के नौ राज्यों के 57 जिलों के 14000 से अधिक गांवों और शहरी क्षेत्रों में गहनता से काम कर रही हैं।

जन साहस संस्था के सदस्य सुरक्षित प्रवासन और श्रमिकों के संरक्षण पर सबसे बहिष्कृत सामाजिक समूहों को काम करते हैं और महिलाओं और बच्चों के खिलाफ यौन हिंसा की रोकथाम के लिए काम करते हैं। जिसमे जनपद ललितपुर के ग्रामीण क्षेत्रो से 50 पैरालीगल वॉलंटियर (पुरुष व महिला) को प्रशिक्षण दिया गया।

जन साहस के डिस्ट्रिक्ट कोऑर्डिनेटर मो.सद्दाम हुसैन ने संविधान व कानून एक्ट के बारे मे विस्तृत जानकारी दी जिसमे महिलयों को समानता का अधिकार व अपने कर्तव्य व सक्षम बनाने की क्षमता वर्धन को लेकर चर्चा की गयी जिसमे अपने क्षेत्र मे लोगो के अधिकार को लेकर जागरूक कर सके। जन साहस के विधि सलाहकार एड. पुष्पेंद्र सिंह चौहान ने ग्रामीण क्षेत्रों से आए हुए पैरा लीगल वालंटियर को कानून की बारीकियों के बारे में बताया और समझाया कि किस तरह सही तथ्य और साक्ष्य पीडि़त को न्याय दिलाने में मदद करते हैं एवं सूचना के अधिकार से संबंधित जानकारियां दी।

कार्यक्रम का संचालन सुनील स्रह्नमार (महिलाओ की आवाज डिस्ट्रिक्ट कोर्डि्नटर) ने किया व उनके सहयोगी] जिसमे संस्था मे सहयोगी बृजलाल , रूपचन्द , धीरेंद्र, राजेश, कुसुम, लक्ष्मी, प्रेमदास, एड. शेरसिंह यादव, एड.स्वतंत्र व्यास, एड. प्रसन्न कौशिक, वरिष्ठ पत्रकार अमित लखेरा आदि उपस्थित रहे।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY