वीडियो चैट कर सहेली को बता रही थी अपना लक, ट्रिगर दबते ही उड़ गया दिमाग

0
फाइल फोटो-

ग्वालियर। 21 साल की छात्रा ने अपने पिता की रिवाल्वर को हाथ में थाम लिया। इसके बाद उसने एक ऐसा गेम खेला जिसने ब्लूव्हेल को भी पीछे छोड़ दिया। बताते हैं उसने अचानक अपनी सहेली को वीडियो कॉल किया। उसको पिता की रिवॉल्वर दिखाकर बोली इसके चेंबर में एक गोली है। पर मुझे भी नहीं पता वह गोली कहां है। इसके बाद उसने रिवॉल्वर की घिर्री घुमा दी और अपनी कनपटी पर रख ली।

सहेली ने उसे मजाक समझा और रिवॉल्वर से खेलने पर मना किया। एक बार छात्रा ने रिवॉल्वर रख दी। पर चंद सेकंड बाद फिर उठा ली। इस बार बोली देखते हैं किस्मत में मौत है या नहीं। दिल्ली मेट्रो ट्रेन में सफर कर रही सहेली उसे इसके लिए मना करती उसके पहले ही रिवाल्वर से निकली गोली ने छात्रा की कनपटी को भेद दिया।

इसी समय छात्रा ने रिवॉल्वर का ट्रिगर दबा दिया। छात्रा के सिर में गोली लगी। सोमवार सुबह 8 बजे छात्रा ने इलाज के दौरान अस्पताल में दम तोड़ दिया। घटना 7 सितंबर दोपहर 12.30 बजे नारायण विहार कॉलोनी की है। ऐसा मृतका की सहेली नजमा ने बताया है।
गोला का मंदिर थानाक्षेत्र स्थित नारायण विहार कॉलोनी निवासी अरविंद सिंह यादव सेना से रिटायर्ड सूबेदार हैं। उनके तीन बच्चे हैं। बड़ा बेटा शिवम इसी साल आर्मी में भर्ती हुआ है। अभी अंबाला कैंट में पदस्थ है, जबकि बेटी 21 वर्षीय करिश्मा ने दिल्ली से बीकॉम किया है। छोटा बेटा देव (12) छठी कक्षा का छात्र है।

6 सितंबर शाम अरविंद और उनकी पत्नी चित्रकूट दर्शन करने बुंदेलखंड एक्सप्रेस से निकले थे। बड़ा बेटा ड्यूटी पर था। शुक्रवार सुबह छोटे भाई देव को स्कूल भेजने के बाद छात्रा करिश्मा घर में अकेली थी। शुक्रवार दोपहर जब करिश्मा का भाई शिवम इटावा होते हुए घर पहुंचा तो देखा कि दरवाज अंदर से बंद था।

काफी शोर करने के बाद भी अंदर से कोई हलचल नहीं हुई तो वह दीवार फांदकर अंदर पहुंचा। अंदर कमरे में उसकी बहन सिर पर तकिया लगाकर खून से सनी बैठी थी। भाई उसे तत्काल बिड़ला अस्पताल लेकर पहुंचा और इसके बाद बसंत विहार स्थित निजी अस्पताल। वहां पता लगा कि उसे गोली लगी है। यहां इलाज के दौरान सोमवार सुबह करिश्मा ने दम तोड़ दिया। पुलिस ने शव को निगरानी में लेकर पोस्टमार्टम कराया और जांच शुरू कर दी है।

LEAVE A REPLY