सूर्य ग्रहण की तपिश के साथ खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस ! 

सूर्य ग्रहण की तपिश के साथ खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस ! 

0
ज्योति पाठक
नई दिल्ली। (एजेंसी) भारत समेत कई देश इस  कोरोना नामक वायरस से इस वक्त जूझ रही है. इस दौरान पूरा विश्व इस वैश्विक महामारी की मार झेल रहा है। यह जानने में लगा है  कि कोरोना वायरस का अंत कब तक हो पायेगा. कोरोना वायरस लगभग सारे देशों में अपने पैर पसार लिए है, जिससे लगातार देशों में संक्रमितों की संख्या बढ़ती जा रही है. इस वायरस की दवा बनाने के लिए विश्व के वैज्ञानिक लगे हुए है.वही बात करे भारत की तो भारत मे भी लगातार संक्रमितों की संख्या बढ़ती ही जा रही है और मृतकों की संख्या भी बढ़ रही है। अब जब lockdown खुल गया है तो संक्रमितों की संख्या में लगातार  बढ़ोतरी हो रही है और अब लोग आस्था का सहारा लिए हुए है धर्म शास्त्र में ज्योतिषियों का दावा है कि हमारे हिंदू पंचांग में लिखा है कि 2020 में किसी विषाणु जनित महामारी का प्रकोप होगा और वह सच भी साबित हो गया है.इससे निपटने के लिए अभी हाल में गृह गृह गायत्री हवन तक हुए ताकि इस वायरस का खात्मा जल्द से जल्द हो सके। इस वायरस का प्रभाव अब गांवों तक में देखने को मिल रहा हैं ।
ग्रामीण कोरोना वायरस से बचने के लिए कई उपाय भी करते है जैसे हाथों में कपूर और लौंग को बांधना और घरों में हवन की दूनी देना उनका मानना है कि इससे उनपर कोरोना का कोई प्रभाव नही होगा।                             अब अगर बात करे ज्योतिष की तो कोरोना की शुरुआत   दिसंबर 2019 में सूर्य ग्रहण लगने के बाद से हुआ था वहीं, इसका प्रकोप 21 जून 2020 तक जो कि 2020 का पहला सूर्य ग्रहण पड़ेगा तब तक जारी रहेगा. वहीं,कई ज्योतिषों का कहना है कि 21 जून को लगने वाले सूर्य ग्रहण के बाद इसका स्तर घटने लगेगा. वहीं, इस साल का दूसरा और अंतिम सूर्य ग्रहण 12 दिसंबर 2020 को लगेगा जिससे इस वायरस का अंत भी हो जाएगा।
01 मई से शनि वक्री हो गये थे. वहीं, 13 मई से शुक्र और 14 मई से गुरु उल्टी चाल चल रहे है जिसके कारण इसका प्रकोप और ज्यादा देखने को मिल रहा है.  पूरे विश्‍व में रोज संक्रमितों और . ज्‍योतिष के अनुसार आने वाले दिनों में कुछ ऐसे योग देखने को मिल रहे है जिससे कोरोना का संक्रमण का  खात्मा इस होने बाले सूर्य ग्रहण के बाद से देखने को मिलने लगेगा।
क्या सूर्य ग्रहण के बाद कोरोना वायरस का असर होगा कम?
21 जून, 2020 को जो सूर्य ग्रहण लगने जा रहा है, वह कंकणाकृति का है. इसका अर्थ यह है कि इससे कोरोना का रोग नियंत्रण में आना शुरू हो जाएगा. यह ग्रहण भारत समेत कई देशों में दिखाई देगा और इस   इस ग्रहण का स्पर्श दिन में 10 बजकर  14 मिनट पर होगा. ग्रहण का मध्‍य 11बजकर 56 मिनट दोपहर पर होगा एवं इसका मोक्ष दोपहर 1 बजकर 38मिनट पर होगा. यह एक खंडग्रास  के रूप में दिखेगा और अब दुनिया इस ज्योतिष का सहारा लिए हुए है कि शायद 21 जून के बाद से इस वायरस का अंत हो जाए।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY