जिन्होंने बचाई थी लड़की इज्ज़त, पढ़ें डायल 100 की कामयाबी की कहानी, बहादुर पुलिसकमिर्यों की जुबानी

0

महोबा (उप्र) : यूपी के महोबा जिले में डायल 100 ने जो किया वह चर्चा का विषय बन चुका है। एक लड़की की इज्ज़त बचाने वाले तीन पुलिसकर्मियों की जमकर सराहना हो रही है। लड़की की इज्ज़त बचाने की कहानी, पढ़ें उन्हीं पुलिसकर्मियों की जुबानी…

11 जनवरी को डायल 100 की टीम ने समय पर पहुंचकर एक लड़की की इज्‍जत और जिंदगी दोनों बचा ली। महोबा जिले के पनवाड़ी इलाके में डायल 100 की एक गाड़ी तैनात की गई है। डायल 100 के कमांडर राम सिंह हैं। उप कमांडर मुख्तार सिंह और पायलट भानुप्रताप सहित कुल 3 लोगों की टीम है। कमांडर राम सिंह ने बताया कि 11 जनवरी को देर शाम वायरलेस पर सूचना मिली कि नागलाघाट के जंगलों में एक लड़की से दबंग रेप करने की कोशिश कर रहा है।

यह सूचना एक किसान कॉलर ने दी थी। वह काफी घबराया और हड़बड़ाया था। कॉलर के मुताबिक- जंगल में उसने लड़की के चीखने की आवाजें सुनी। हम घटनास्थल से करीब 8 किलोमीटर दूरी पर थे। सूचना मिलते ही गाड़ी दौड़ा ली। पायलट भानुप्रताप से गाड़ी तेज चलाने को कहा। हम करीब 8 मिनट में जंगल के पास पहुंच गए। लेकिन हमें घटनास्‍थल से करीब 100 मीटर पहले ही गाड़ी रोक देनी पड़ी। जंगल में बताई गई जगह तक पहुंचने के लिए पैदल ही टॉर्च की रोशनी के साथ निकल पड़े। इस बीच गांव के लोग भी पहुंच चुके थे। घटनास्थल की ओर थोड़ा आगे बढ़ने पर हमें लड़की के चीखने की आवाज सुनाई दी। हम दबे पावं लड़की तक जा पहुंचे। लड़की बहुत घबराई हुई, कांप रही थी। बाल-बिखरे थे। कपड़ों पर मिट्टी लगी हुई थी। दबंग उसके साथ जबरदस्‍ती करने की कोशिश कर रहा था।  हमें देखकर आरोपी भी घबरा गया। टीम ने उसे दबोच लिया और लड़की को सही सलामत उसके घरवालों के हवाले कर दिया।

यह रहा घटनाक्रम

महोबा जिले के थाना पनवाड़ी के नगराघाट गांव की रहने वाली दलित किशोरी का मंगलवार की रात अपहरण कर रेप की कोशिश की गई। किशोरी अपने पिता के साथ के साथ पनवाड़ी घर के लिए गेट खरीदने के लिए गई थी। रात होने लगी तो उसके पिता ने किशोरी को गांव के ही युवक बलवान राजपूत के मोटरसाइकिल से घर भेज दिया, मगर रास्ते ही में बलवान की नियत पलट गई। उसने मोटरसाइकिन को जंगल की ओर मोड़ दिया और एक खेत में किशोरी को ले जाकर जबरन रेप करने की कोशिश करने लगा।

8 मिनट में ही पुलिस ने दबोच लिया बदमाश

यूपी डायल 100 की गाड़ी सूचना दर्ज होेने के महज 8 मिनट के भीतर ही मौके पर पहुंच गई। यह लोकेशन गांव से 6 किलोमीटर दूर जंगल में थी। चैकी इंचार्ज रामसिंह, सिपाही मुख्तार अहमद व चालक भानु प्रताप राजपूत ने वहां पहुंचकर चीखने की आवाज के स्थान की घेराबंदी कर दी। इस बीच कुछ गांव वालों ने भी पहुंचकर पुलिस की मदद की। पुलिस ने टार्च के सहारे किशोरी का रेप करने की कोशिश कर रहे बदमाश को मौके पर ही पकड़ लिया।

लड़की का पिता नहीं पहचान सका गांव के युवक के भीतर का शैतान

लड़की का पिता जब गेट खरीद रहा था तभी गांव का ही बलवान वहां आ गया। वह उसके पिता से बातें करने लगा। तभी उसने गांव जाने की बात कहकर कहा कि वह उसकी बेटी को घर तक छोड़ देगा। इस पर पिता ने उस पर भरोसा कर लिया और उसके साथ बेटी को भेज दिया। यही भूल उसके लिए भारी पड़ गई और उसकी बेटी मुसीबत में आ गई।

आखिर तक बदमाश से जूझती रही दलित किशोरी

जब जंगल के बीच बलवान किशोरी को धमकाकर रेप की कोशिश कर रहा था तो वहीं किशोरी भी अपनी आबरू बचाने के लिए जूझती रही। चीख कर मदद भी मांगती रही। यही कारण है कि इससे पहले कि वह हारकर दबंग के सामने समर्पण कर देती उसके पहले ही पुलिस ने वहां पहुंचकर उसको सकुशल बचाने में सफलता हासिल कर ली। बलवाल राजपूत गांव का दबंग है जिसके ऊपर  कई आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं। उसके ऊपर संगीन धाराओं में केस दर्ज किया है। उस पर पॉस्को एक्ट व एससी,एसटी एक्ट भी लगाया गया है। बुधवार को उसे जेल भेज दिया गया।

पूरे गांव ने कहा था, शानदार है सीएम अखिलेश की यह सेवा

गांव के लोगों ने जब डायल 100 का इतनी तेजी से असर देखा तो वह बरबस ही कह बैठे कि वाकई यह शानदार योजना है। महज 8 मिनट में पुलिस ने पहुंचकर गांव की बेटी की इज्जत बचा ली। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की इस डायल 100 सेवा की सब ने दिल खोलकर तारीफ की।

LEAVE A REPLY