छात्रों को नहीं मिल रहा अल्पसंख्यक होने का सर्टिफिकेट, SDM बोले हमें पता नहीं

0
अल्पसंख्यक प्रमाणपत्र नहीं बनने से परेशान लोग
@राहुल श्रोती –
मड़ावरा(ललितपुर): तहसील क्षेत्र में अल्पसंख्यक जाति के छात्रों के जाति प्रमाणपत्र जारी नहीं किये जा रहे. उनके अभिभावकों परेशान हैं. कई चक्कर लगाने के बाद प्रमाणपत्र हासिल नहीं हो रहा. तो वहीँ SDM का कहना है कि प्रमाणपत्र बनाने को लेकर उनके पास कोई निर्देश नहीं हैं.
  कस्बा निवासी नितिन जैन ने अल्पसंख्यक जाति निर्गत कराये जाने हेतु तहसील कार्यालय में नियमानुसार आवेदन किया था, उनके आवेदन पर स्थानीय लेखपाल एवं राजस्व निरीक्षक की आख्या रिपोर्ट के बाद भी कार्यालय से जाति प्रमाण पत्र निर्गत नहीं किया गया। वहीं ग्राम साढूमल निवासी नसीर खान भी मध्यप्रदेश में अध्ययनरत अपने पुत्र के जाति प्रमाणपत्र बनवाने हेतु तहसील के चक्कर लगा रहे हैं।
गौरतलब है कि पिछड़ी जाति समेत अनुसूचित जाति/जनजाति समुदाय के जाति प्रमाणपत्र बनवाने के लिये जनसेवा केंद्रों से ऑनलाइन आवेदन किये जाने की व्यवस्था है जिनका सत्यापन भी ऑनलाइन किया जा सकता है लेकिन अल्पसंख्यक जाति के जाति प्रमाणपत्र बनवाने के लिये कोई भी ऑनलाइन व्यवस्था नहीं है। अल्पसंख्यक जाति के प्रमाणपत्र पूर्व में तहसीलदार कार्यालय से मैन्युअली जारी किये जाते थे लेकिन कुछ समय से मड़ावरा तहसील से अब उक्त प्रमाणपत्र जारी नहीं किये जा रहे हैं।
जाति प्रमाण पत्र जारी नहीं किये जाने से शैक्षणिक संस्थाओं में अध्ययनरत छात्रों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। ग्रामीणों ने जिलाधिकारी का ध्यानाकर्षित कराते हुये मांग की है कि मड़ावरा तहसील कार्यालय से पूर्व की भांति अल्पसंख्यक जाति प्रमाणपत्र जारी कराये जाने हेतु आवश्यक निर्देश जारी किये जायें।
क्या कहते हैं SDM
उपजिलाधिकारी मड़ावरा हेमेन्द्र कुमार ने बताया,  अल्पसंख्यक जाति के प्रमाणपत्र जारी किये जाने हेतु उनके पास कोई दिशा-निर्देश नहीं हैं, पूर्व में प्रमाणपत्र कैसे जारी किये गये इसकी उन्हें कोई जानकारी नहीं है। वहीँ जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी अमित प्रताप सिंह कहते हैं, अल्पसंख्यक कल्याण कार्यालय द्वारा भी नियमानुसार अल्पसंख्यक जाति के प्रमाणपत्र जारी किए जाते हैं, जिनका सत्यापन अधोहस्ताक्षरी कार्यालय द्वारा पत्राचार द्वारा कराया जा सकता है।

 

LEAVE A REPLY