राम की नगरी में अखिलेश ने किन्नर को टिकट देकर दिया योगी के मिशन अयोध्या को जवाब

0
लखनऊ. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अयोध्या पॉलिटिक्स के बाद सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने अलग डाव खेला है. निकाय चुनाव के लिए अखिलेश ने जिन 7  मेयर प्रत्याशियों के नाम का ऐलान किया है उसमें दो किन्नरों को प्रत्याशी बनाया है. रविवार से पहले चरण का नामांकन शुरू हो गया है। वहीं, देर शाम समाजवादी पार्टी ने 7 नगर निगम के मेयर पद के कैंडिडेट्स घोषित कर दिए हैं। जिसमें से 2 मुस्लिम कैंडिडेट्स हैं। समाजवादी पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने बताया कि अभी मेरठ, बरेली, मुरादाबाद, अलीगढ, झांसी, अयोध्या-फ़ैजाबाद, गोरखपुर के मेयर पद के कैंडिडेट्स फाइनल किये गए हैं।
जाने किसे कहां से मिला टिकट
-डॉ आईएस तोमर- बरेली
-यूसुफ अंसारी- मुरादाबाद
-मुजाहिद किदवई-अलीगढ़
-राहुल सक्सेना- झांसी
-गुलशन बिंदु- अयोध्या फैजाबाद
-राहुल गुप्ता- गोरखपुर से मेयर पद के उम्मीदवार बनाए गए हैं।
जानिए उम्मीदवारों के बारे में
बरेली: पुराने मेयर पर जताया भरोसा
-बरेली नगर निगम से समाजवादी पार्टी ने इस बार भी अपने पुराने कैंडिडेट पर ही भरोसा किया है। डॉ आईएएस तोमर पिछले दस सालों से बरेली के मेयर हैं। पार्टी ने एक बार फिर से उन्हें मौका दिया है।
-डॉ आईएस तोमर की बरेली में अच्छी छवि है। वह सपा के लिए जिताऊ कैंडिडेट साबित हो सकते हैं।
-2017 विधानसभा चुनावों में उन्हें सपा से बरेली कैंट का टिकट भी मिला था लेकिन कांग्रेस के साथ गठबंधन होने के बाद ये सीट कांग्रेस के खाते में चली गयी थी।
मुरादाबाद: पूर्व विधायक को बनाया मेयर पद का उम्मीदवार
-मुरादाबाद से यूसुफ अंसारी को सपा ने मेयर पद का टिकट दिया है। आपको बता दे कि अंसारी इससे पहले विधायक भी रह चुके हैं।
-वहीं, योगी सरकार बनने के बाद भू-माफिया टास्क का गठन किया था। जिसमें मुरादाबाद में एक लिस्ट बनायी थी। इस लिस्ट में युसूफ का नाम भी डाला गया था।
अलीगढ़: पुराने नेता पर भरोसा जताया
-सपा ने अलीगढ़ से मुजाहिद किदवई को टिकट दिया है। मुजाहिद सपा के पुराने नेता हैं। वह संगठन में भी प्रदेश सचिव रह चुके हैं।
-बता दे कि 2013 में उन्हें डग्गामार वाहनों के ग्रुप ने जान से मारने की धमकी भी दी गई थी। वहीं, अलीगढ़ यूनिवर्सिटी के पुराने वीसी से उनकी तनातनी जगजाहिर रही है।
फैजाबाद-अयोध्या: किन्नर को द‍िया टिकट
-फैजाबाद-अयोध्या से गुलशन बिंदु को टिकट दिया गया है। गुलशन फैजाबाद से चेयरमैन का चुनाव लड़ चुकी हैं। मात्र 200 वोट से हारी थी। 2012 में विधानसभा चुनाव भी लड़ चुकी हैं। उन्हें 21 हजार वोट मिले थे।
-उन्होंने कहा कि मैं शुरू से ही समाजसेवी रही हूं। हम किन्नरों पर राम का आशीर्वाद है।
गोरखपुर: विधानसभा चुनाव लड़ चुके कैंडिडेट पर जताया भरोसा
-गोरखपुर नगर निगम से राहुल गुप्ता को मेयर प्रत्याशी बनाया गया है। इनकी मां सपा समर्थित पार्षद थीं। राहुल गोरखपुर शहर से सपा की टिकट पर विधानसभा का चुनाव भी लड़ चुके हैं।
मेरठ: पदाधिकारी की पत्नी को दिया टिकट
-मेरठ के मेयर पद के लिए सपा ने पदाधिकारी की पत्नी पर भरोसा जताया है। समाजवादी अनुसूचित जाति मोर्चा के शहर अध्यक्ष विपिन मनेठिया की पत्नी दीपू मनेठिया वाल्मीकि को टिकट मिला है।
झांसी: अखिलेश के करीबी को टिकट
-राहुल सक्सेना (45) समाजवादी युवजन सभा के प्रदेश सचिव रहे हैं। इसके साथ ही सपा की प्रदेश कार्यकारिणी में भी रहे हैं। उन्हें अखिलेश का करीबी माना जाता है। इनके पिता प्रभात सक्सेना पुराने सपा नेता रहे हैं। पिता प्रभात के मुलायम से अच्छे संबंध रहे हैं।
-झांसी में लोगों के बीच इतने पॉपुलर नहीं, लेकिन सपा के आलाकमान में अच्छी पकड़। माना जा रहा है कि इसीलिए उन्हें टिकट मिल गया।
तीन चरणों में होगा निकाय चुनाव 
-बता दें, यूपी में निकाय चुनाव तीन चरणों में होने हैं। पहले चरण के 24 जिलों में नॉम‍िनेशन रविवार से शुरू हो चुके हैं। इन 24 जिलों में 4 नगर निगम, 71 नगर पालिका परिषद और 154 नगर पंचायतें हैं।

 

LEAVE A REPLY