बाबा महाकाल की शरण में प्रियंका गांधी, 1 घंटे की पूजा, नंदी...

बाबा महाकाल की शरण में प्रियंका गांधी, 1 घंटे की पूजा, नंदी के कान में मांगी मन्नत

0

 

इंदौर। मध्य प्रदेश की राजनीति में दर्शन और महाभिषेकआज ऐतिहासिक दिन था। यहां की प्रमुख धर्म नगरी और बाबा महाकाल के प्राचीन मंदिर में देश के सबसे बड़े राजनीतिक घराने की बेटी प्रियंका गांधी मत्था टेकने पहुंचीं।
कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने मध्य प्रदेश में अपने सियासी दौरे का आगाज कर दिया। प्रियंका गांधी दोपहर डेढ़ बजे उज्जैन महाकाल मंदिर में पहुंचीं। करीब एक घंटा अभिषेक और पूजा अर्चना के बाद वह रोड शो करते हुए एयरपोर्ट के लिए निकल गईं। वहां से रतलाम और फिर वहां से इंदौर के लिए निकलीं। प्रियंका की एक झलक पाने की लेकर भीड़ में बेताबी साफ दिखाई दी। उनके साथ मुख्य मंत्री कमलनाथ भी मौजूद रहे ।

जिन सीटों पर अंतिम चरण का चुनाव होना है वहां कांग्रेस ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। मध्य प्रदेश में पहली बार कांग्रेस ने हाल ही में सक्रिय राजनीति में कदम रखने वाली उत्तर प्रदेश की प्रभारी महासचिव प्रियंका गांधी चुनावी अभियान में उतार दिया है। 2014 लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को सिर्फ दो ही सीटें मिलीं थीं. लेकिन विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद यहां अब यहां कांग्रेस को लोकसभा चुनाव से भी काफी उम्मीदें हैं। इसी को लेकर प्रियंका गांधी ने आज बाबा महाकाल के दर्शन के साथ मध्य प्रदेश का सियासी पारा गर्म कर दिया है। कांग्रेस ने यहां की सुरक्षित सीट से बाबूलाल मालवीय को चुनाव लड़ाया है। उनका मुकाबला BJP के अनिल फिरौजिया से है।

उज्जैन भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक बाबा महाकाल की नगरी है। 2014 के लोकसभा चुनावों में यहां बीजेपी के चिंतामणि मालवीय ने कांग्रेस के प्रेमचंद गुड्डू को हराया था। उज्जैन लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत विधानसभा की 8 सीटें आती हैं। यहां नगाड़ा-खचरौड़, घटिया, वडनगर, महीदपुर, उज्जैन उत्तर, उज्जैन दक्षिण, अलोट, तराना विधानसभाएं हैं । यहां की 8 विधानसभा सीटों में 5 पर कांग्रेस और 3 पर बीजेपी काबिज हैं। बीजेपी ने उज्जैन से चिंतामण मालवीय की जगह इस बार तराना से पूर्व विधायक अनिल फिरोजिया को मैदान में उतारा है। जबकि कांग्रेस ने पिछली बार चुनाव हारने वाले
प्रेम चंद गुड्डू का टिकट काट कर पूर्व मंत्री बाबूलाल मालवीय को लोकसभा चुनाव लड़ाया है। यहां 26 फीसदी आबादी अनुसूचित जाति की है। कांग्रेस ने यहां प्रियंका गांधी को भेजकर BJP के सबसे मजबूत गढ़ मालवा में सेंध लगाने की कोशिश की है। कांग्रेस को उम्मीद है कि यहां वह प्रियंका गांधी के आकर्षक नेतृत्व के जरिये BJP का किला भेद देगी। वह इसलिए भी क्योंकि मालवा-निमाण BJP का सबसे मजबूत गढ़ है। यहां की सभी सीटों पर BJP काबिज है। अंतिम चरण में यहां की 8 लोकसभा सीटों पर चुनाव है और प्रियंका गांधी को उत्तर प्रदेश के बाद यहां भेजकर कांग्रेस अपनी जमीन मजबूत करने की कोशिश में है।

पूरी आस्था और परंपरा के साथ की पूजा

प्रियंका गांधी ने महाकाल मंदिर में पहुंचकर विधिवत पूजा की । वहां उन्होंने विधि विधान से अभिषेक किया। अभिषेक के समय उनके साथ मुख्य मंत्री कमलनाथ भी मौजूद रहे। पूजा अर्चना के बाद प्रियंका गांधी ने नंदी बाबा के कान में फूंकने की रस्म भी पूरी कर दुआ मांगी.

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY