फोन सुनते ही अचानक क्यों टेंशन में आए एसडीएम, फिर रायफल से...

फोन सुनते ही अचानक क्यों टेंशन में आए एसडीएम, फिर रायफल से मार ली गोली

0
फाइल फोटो - SDM हेमेन्द्र अपनी पत्नी के साथ

@राहुल श्रोती
मड़ावरा।  सैदपुर से केन्द्रीय मंत्री उमा भारती लौट चुकी थीं। उमा भारती के जाने के बाद एसडीएम क्षेत्र में निकले और दोपहर 3 बजे के दरम्यान क्षेत्र से लौटकर अपने बंगले पर खाना खाने पहुंचे। एसडीएम मड़ावरा हेमेन्द्र कांडवाल गार्ड बंगले के बाहरी कमरे में खाना खाने बैठ गये और एसडीएम अंदर बरामदे में खाने की टेबिल पर बैठ गये।

इस घटना के बाद सूत्र बताते हैं, उन्होंने अभी खाना खाना शुरू ही किया था कि अचानक कोई फोन आया जिसे सुनने के बाद वह खाना छोडक़र बाहर गार्डरूम में पहुंचे गए। वहां अपने गार्ड संतोष कुमार से राइफल चलाने और उसे लोड करने की जानकारी लेने के बाद 3030 राइफल और दो कारतूस लेकर एसडीएम अंदर चले गये।sdm hemendra ltp

अपने अधिकारी द्वारा की गई पूंछताछ और राइफल ले जाने के दौरान गार्ड संतोष कुमार को किसी भी अनहोनी की आशंका नहीं हुई और वह खाना खाने लगा। तभी कुछ ही पलों बाद अंदर कमरे से धमाके की आवाज सुनकर गार्ड चौंक गया। वह अंदर दौड़ा। वहां एसडीएम की रक्तरंजित लाश पड़ी थी। लेकिन वह फोन किसका था. SDM से किसने क्या बात की जो उन्होंने तनाव में आकार आत्मघाती कदम उठा लिया. पुलिस इसकी जाँच में जुट गयी है.

  • रविवार दोपहर मड़ावरा के उपजिलाधिकारी हेमेन्द्र कुमार ने होमगार्ड की राइफल से खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली। इसके बाद प्रशासनिक महकमे में हडक़म्प मच गया। 1996 बैच के पीसीएस अधिकारी रहे हेमेन्द्र कुमार काण्डपाल मूलत: बरेली जनपद के निवासी थे। जिनकी उपजिलाधिकारी के रुप में मड़ावरा में पहली पोस्टिंग थी।

अपनी ईमानदार और स्वच्छ छवि के लिये जाने जाने वाले अधिकारी पीसीएस अधिकारी द्वारा आत्महत्या किये जाने को घटना के पीछे के कारणों की गुत्थी सुलझाने में पुलिस मामले की तफ्तीश में जुट गयी है। घटना की जानकारी मिलते ही आला अधिकारी मौके पर पहुंच गए।

घटना के बाद निरीक्षण करने पहुंचे डीएम मानवेन्द्र सिंह
घटना के बाद निरीक्षण करने पहुंचे डीएम मानवेन्द्र सिंह
  • डीएम मानवेन्द्र सिंह ने इसको लेकर कहा है कि आत्महत्या के पीछे पारिवारिक कारण हो सकता है। उनका लडक़ा बीमार रहता था। लेकिन वहीं, मृतक एसडीएम की पत्नी का आरोप प्रशासन पर ही है। पत्नी की मानें तो वह काम की वजह से घर नहीं जा पा रहे थे। उन्होंने अपने बेटे की बीमारी का हवाला देकर स्थानांतरण को लेकर कई बार अर्जी दी, लेकिन स्थानांतरण नहीं हो सका। उन्होंने बताया कि उनका एक पुत्र-पुत्री हैं, बेटी कम्पटीशन की तैयारी कर रही है और मानसिक बीमारी से पीडि़त बेटा उनकी पत्नी के साफ मुरादाबाद में रह रहा था।
  • तहसीलदार ने पुलिस को दी आत्महत्या की सूचना
    दोपहर 3 बजे के दरम्यान खाना खाने के दौरान एसडीएम द्वारा सुरक्षागार्ड की राइफल से खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर लेने की सूचना तहसीलदार मड़ावरा सौरभ पाण्डेय द्वारा पुलिस को फोन पर दी गयी। सूचना मिलते ही तत्काल थानाध्यक्ष मड़ावरा बृषभान सिंह और उपनिरीक्षक माबूद रजा मौके पर पहुंच गये।
  • सूचना के बाद एसडीएम महरौनी धीरेंद्र प्रताप सिंह, पुलिस क्षेत्राधिकारी श्यामनारायण भी पहुंच गये। घटना के बाद पुलिस ने होमगार्डों के बयान दर्ज किए। इसके बाद फॉरेंसिक टीम ने भी शाम के समय पहुंचकर मौका मुआयना किया।

 

  • डीएम बोले, पारिवारिक तनाव में थे हेमेंद्र
    पीसीएस अधिकारी द्वारा गोली मारकर आत्महत्या कर लेने के प्रकरण में जिलाधिकारी मानवेन्द्र सिंह ने मीडिया से मुखातिब होते हुये बताया कि हेमेंद्र कुमार पारिवारिक समस्या से परेशान चल रहे थे। शायद वह पुत्र की बीमारी के चलते भी मानसिक अवसाद से ग्रस्त रहे जिसके चलते उन्होंने यह आत्मघाती कदम उठाया हो।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

%d bloggers like this: