इस साल गर्मी तोड़ेगी पुराने रेकॉर्ड, बारिश के आसार नहीं

0

नई दिल्ली . दिल्ली में इस बार पिछले 3 सालों की तुलना में सबसे कम बारिश हुई। सफदरजंग इलाके में 1 से 22 मार्च के दौरान 11.1 मिमी बारिश हुई। यहां 2014 में 33.4 मिमी, 2015 में 97.5 मिमी और 2016 में 34.8 मिमी बारिश दर्ज हुई थी। मौसम वैज्ञानिकों ने बताया कि बीते कुछ सालों की तुलना में मौसम में काफी बदलाव आया है।

मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि नॉर्थ इंडिया में जिस तेजी से वेस्टर्न डिस्टरबेंस आते थे, वैसे इस साल नहीं आए। इसका असर दिल्ली और आसपास के मैदानी इलाकों में कम ही रहा। मार्च में आमतौर पर अच्छी बारिश होती थी। हालांकि इस साल काफी कम बारिश हुई। मौसम वैज्ञानिकों ने बताया कि 2016 सबसे गर्म साल रहा था। इस साल और भी ज्यादा गर्मी पड़ने के चांस हैं। तापमान नॉर्मल से ज्यादा रहने की संभावना जताई गई है। मार्च में अब अच्छी बारिश होने के आसार नहीं हैं। मौसम वैज्ञानिकों के मुताबिक, दिल्ली में मार्च 2013 में रिकॉर्ड बारिश दर्ज की गई थी। इससे कई साल का रेकॉर्ड टूट गया था। हालांकि इस साल मार्च 2017 में मौसम ड्राइ रहा। कई दिन बादल भी छाए, लेकिन बारिश नहीं हुई। कुछ दिन ऐसे भी रहे जब दिनभर धूप निकली। मार्च के बचे हुए दिनों और अप्रैल की शुरुआत में अच्छी और तेज बारिश होने के चांस कम हैं।
दिल्ली की तरफ नॉर्थ से आने वाली हवाएं भी पहले की तरह तीव्रता से नहीं पहुंची। वेस्टर्न डिस्टरबेंस ने उत्तर भारत में तो दस्तक दी, लेकिन इसका असर पहाड़ी इलाकों तक ही रहा। दिल्ली के साथ मैदानी इलाकों की तरफ मौसम शिफ्ट नहीं हुआ। इसके कारण दिल्ली में मौसम ड्राई रहा। मौसम विभाग के मुताबिक अब धीरे-धीरे तापमान बढ़ने लगेगा। बुधवार को अधिकतम तापमान 35.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ। न्यूनतम तापमान 18.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ, जो नॉर्मल से एक डिग्री ज्यादा रहा। मौसम विभाग ने कहा है कि 28 मार्च तक अधिकतम तापमान 35 से 36 डिग्री सेल्सियस तक रहने की उम्मीद है। न्यूनतम तापमान भी धीरे-धीरे बढ़ने लगेगा। यह भी 19 डिग्री तक जा पहुंचेगा। आने वाले दिनों में उत्तर भारत के मैदानी इलाकों में 2 से 3 डिग्री सेल्सियस और भी ज्यादा तापमान बढ़ने की संभावना है।

LEAVE A REPLY