बांदा के जामिया अरबिया हथौरा मदरसे में NIA के छापे से हडक़ंप

0

@bundelkhandkhabar.com

बांदा। जिले के जामिया अरबिया हथौरा मदरसे में अचानक एनआईए की टीम ने दाखिल होकर पूछताछ शुरू कर दी। एनआईए को यहां कश्मीरी छात्रों के होने के साथ ही कुछ संदिग्ध गतिविधियों की जानकारी मिली थी। इसी के चलते यहां दोपहर को रेड की जो देर शाम तक जारी रही। अचानक रेड किए जाने पर मदरसे में के स्टाफ के साथ स्टुडेंट्स में आक्रोश देखा जा रहा है, जिसको लेकर पुलिस सुरक्षा बढ़ा दी गई है।


बताया जा रहा है कि बांदा जिले के हथौरा गांव में स्थित जामिया अरबिया स्थित मदरसे में ब्रहस्पतिवार को  भारी पुलिस बल के साथ एनआईए की टीम दाखिल हुई।  NIA के डिप्टी SP संत कुमार, इंस्पेक्टर एस के चौधरी जाँच कर रहे हैं. टीम के अधिकारियों को देखते ही मदरसे के भीतर मौजूद स्टुडेंट्स और स्टाफ भौचक रह गया। अभी तक मदरसे के अंदर बिना इजाजत किसी को भी दाखिल होने की अनुमति नहीं थी। यहां तक कि पुलिस के अधिकारी भी इसके अंदर प्रवेश नहीं कर सकते थे, लेकिन बृहस्पतिवार को जब एनआईए की टीम ने यहां रेड की तो हडक़म्प मच गया। वहां के स्टाफ के साथ स्टुडेंट्स ने इसका भारी विरोध किया। NIA के अधिकारियों ने उनको जानकारी देते हुए जांच शुरू कर दी है।

कश्मीरी छात्रों के तालीम देने पर निशाने पर आया मदरसा
NIA की ओर से अभी जाँच के विन्दुओं की कोई अधिकारिक जानकारी तो नहीं दी गयी है, लेकिन माना जा रहा है कि टीम आसिफ के तीन पूर्व कश्मीरी साथियों को यहाँ तलाशने पहुंची थी.  हथौरा मदरसा कश्मीरी छात्रों को तालीम दिए जाने को लेकर जांच एजेंसियों के निशाने पर आया है. चर्चा है कि एनआईए को पिछले कुछ दिनों से जो इनपुट मिल रहा था उसमें मदरसे की भूमिका भी संदिग्ध थी। इसी की जांच को लेकर यहां पर रेड की गई । अब टीम कश्मीरी छात्रों को लेकर जानकारी जुटा रही है। देर शाम तक जांच जारी थी।

बाबरी मस्जिद ढहाए जाने के बाद चर्चा में आया था हथौरा गांव
सूत्र बताते हैं कि उत्तर प्रदेश में जब बाबरी मस्जिद ढहाई गई थी तब बांदा के हथौरा गांव से अवैध  हथियार बरामद किए गए थे। हथौरा गांव में 90 प्रतिशत मुस्लिम आवादी है। यहां मदरसा शुरू होने के बाद कई जगहों के छात्र तालीम लेने आते हैं। मदरसा अरबी डिग्रियों का वितरण भी करता है। इसी को लेकर इसका मुस्लिम समुदाय में विशेष क्रेज है।

LEAVE A REPLY