भाईचारा: नफरत नहीं, कौमी एकता की मिसाल है पुरानी दिल्ली

0

पंकज चतुर्वेदी 

नई दिल्ली। पुरानी दिल्ली ने हरा दिया नफरत को , अभी एक हफ्ता पहले पुरानी दिल्ली ने लाल कुआँ में एक साधारण से झगड़े को कुछ बहरी लोगों ने साम्प्रदायिक रंग दिया और कुछ देश द्रोहियों ने एक मंदिर में तोड़ फोड की थी, तनाव था लेकिन आज पुश्तों से साथ रहने वाले पुरानी दिल्ली के लोगों ने एक साथ आ कर शानदार मिसाल पेश की .अमन कमेटी के लोगों ने शोभा यात्रा निकाल रहे लोगों के लिए खाना और पानी का भी इंतजाम किया है।

आज सुबह दस बजे से हौज क़ाज़ी में एक शोभा यात्रा निकाली गयी जिसमे मंदिर में दुर्गा की नई प्रतिमा की प्राण प्रतिष्ठा किया गया , इस जुलुस में मुस्लिम समाज सबसे आगे शहनाई बजा रहा है , जगह जगह मुस्लिम समाज ने जुलुस के स्वागत के लिए व्यवस्था कि, फतेहपुरी मस्जिद के इमाम मस्जिद के सामने जुलुस का स्वागत करना चाहते थे लेकिन किसी “ऊपर” से आये आदेश के बाद उन्हें ऐसा करने से रोक दिया गया . , फिर भी दोनों धर्म के लोग साथ साथ मंदिर तक गए और जता दिया कि सारे जहाँ से अच्छा हिंदुस्तान हमारा,
यही नहीं, दूसरे समुदाय के लोगों ने शोभा यात्रा निकाल रहे लोगों का स्वागत फूल बरसा कर किया। इसकेे अलावा भाई-चारे की मिसाल पेश करते हुए लोगों ने प्रसाद भी बंटवाया।

पंकज चतुर्वेदी प्रख्यात लेखक हैं. उनकी फेसबुक वॉल से साभार.

LEAVE A REPLY