विधायक राजपूत ने फिर उठाया फसल बीमा लाभ से वंचित 68 हजार...

विधायक राजपूत ने फिर उठाया फसल बीमा लाभ से वंचित 68 हजार किसानों का मुद्दा

0
  • प्रमुख सचिव व फसल बीमा निदेशक से की वार्ता, भारत सरकार को लिखा गया पत्र झांसी के किसानों को खरीफ नुकसान की पूरी भरपाई न होने तक हम लड़ते रहेंगे: राजपूत

आस्था शर्मा


 झांसी। झांसी जिले में खरीफ की फसल को पिछले साल भारी नुकसान हो गया था। इस पर हमने विधानसभा से लेकर मुख्यमंत्री और बीमा कंपनी के अधिकारियों से लगातार वार्ता की थी। इसके बाद झांसी के सार्वाधिक 1 लाख 23 हजार 669 किसानों को फसल बीमा का लाभ मिल गया, लेकिन आधार कार्ड की कुछ खामियों के चलते 68 हजार 194 किसान इससे वंचित रह गए। इनको फसल बीमा का पैसा दिलाने के लिए हम लगातार प्रयास कर रहे हैं। यह बात गरौठा विधायक और किसान नेता जवाहर लाल राजपूत ने कही है। उन्होंने कहा कि नाम सुधारने के लिए पोर्टल खोला जा रहा है। किसान चिंतित न हों उन्हें उनका हक जरूर दिलाया जाएगा।

गरौठा विधायक जवाहर लाल राजपूत ने कहा है कि हमने आज प्रमुख सचिव देवेश चतुर्वेदी और फसल बीमा निदेशक विनोद सिंह से फोन पर चर्चा की है। उन्हें झांसी के उन किसानों की समस्या से अवगत करा दिया है जो फसल बीमा के लाभ से वंचित रह गए थे। यह वह किसान हैं जिनका प्रीमियत काटा गया है और बीमा क्षतिपूर्ति अभी तक प्राप्त नहीं हुई है। उन्होंने कहा कि खरीफ फसल बीमा क्षतिपूर्ति 2019-20 को जारी तो कर दिया गया है, लेकिन अभी भी इससे बड़ी संख्या में किसान वंचित रह गए हैं। जिले के किसानों के खातों में 198 करोड़ 25 लाख रुपए क्षतिपूर्ति धनराशि पहुंचा दी गई है। यह 1 लाख 23 हजार 669 किसानों के खातों में पहुंची है। जबकि झांसी में 1 लाख 91 हजार 563 किसानों से बीमा प्रीमियम राशि काटी गई थी। उन्हें अब तक फसल बीमा क्षतिपूर्ति नहीं दी गई।

विधायक राजपूत ने बताया कि झांसी में 68 हजार194 किसान फसल बीमा क्षतिपूर्ति से वंचित रह गए हैं। यह सभी वह किसान हैं जो खरीफ फसल नुकसान के बाद प्रधानमंत्री फसल बीमा के पात्र हैं। आधार कार्ड और बैंक अकाउंट के नाम में अंतर होने के कारण उनको क्षतिपूर्ति राशि नहीं मिल सकी। यह बीमा कंपनी और बैंक द्वारा ही ठीक की जानी चाहिए, क्योंकि इसमें किसान का कोई दोष नहीं है। प्रीमियम राशि काटते समय इस बात को नहीं देखा गया तो किसान को फसल बीमा का लाभ देने के लिए इसे आधार बनाकर वंचित नहीं किया जा सकता।

विधायक राजपूत ने प्रमुख सचिव व बीमा निदेशक को वार्ता के दौरान बताया कि बैंक व बीमा कंपनी की गलतियों के कारण झांसी के 68194 किसान खरीफ फसल बीमा क्षतिपूर्ति से वंचित हैं। इनको इसका लाभ फौरन मिलना चाहिए। इन किसानों की आर्थिक स्थिति काफी खराब है और इसके लिए आधार कार्ड और गलत फीडिंग करने वाले जिम्मेदार हैं। उन्होंने कहा कि जो किसान बीमा लाभ से छूट गए हैं उनके आधार कार्ड और बैंक अकाउंट के सही मिलान व त्रुटियां दूर कर उनको क्षतिपूर्ति राशि फौरन जारी कराई जाए। पोर्टल खोला जा रहा है लेकिन आधार कार्ड और बैंक अकाउंट के नाम में कुछ अंतर है। इसे खतौनी या फिर बैंक अकाउंट के आधार पर ही सही किया जाए।

इसके साथ ही किसान सम्मान निधि का लाभ भी किसानों को इन मामूली त्रुटियों के कारण नहीं मिल पा रहा है। इस वार्ता के बाद प्रमुख सचिव देवेश चतुर्वेदी और फसल बीमा निदेशक विनोद सिंह ने बताया कि इसको लेकर उन्होंने भारत सरकार को एक चिठ्ठी लिखी है। जिसमें बीमा क्षतिपूर्ति पात्र किसानों के बैंक दस्तावेजों में मामूली त्रुटियों को सही करने का आग्रह किया गया है। उन्होंने बताया है कि जिन किसानों का प्रीमियत काटा गया है उनको बीमा क्षतिपूर्ति का लाभ जरूर दिया जाएगा। गरौठा विधायक ने कहा है कि किसान चिंतित न हों। वह बैंक के चक्कर न लगाएं, क्योंकि हमने उनकी बात को संबंधित अधिकारियों तक पहुंचा दिया है। उनको उनका हक दिलाने के लिए वह लगातार प्रयास कर रहे हैं।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY