झांसी। झांसी जिले में प्राकृतिक आपदा से फसलों को भारी नुकसान हुआ था। इस पर पिछले दिनों गरौठा विधायक जवाहर लाल राजपूत ने मुख्यमंत्री समेत उच्चाधिकारियों से किसानों को जल्द फसल बीमा क्षतिपूर्ति जारी करने के लिए लिखित मांग की थी। इस पर नुकसान के आंकलन पर पहले 152 करोड़ और फिर इसके बाद धनराशि में 50 करोड़ से अधिक का इजाफा कर 209 करोड़ रुपए झांसी जिले के किसानों के लिए स्वीकृत कर दिए गए। यहां 1 लाख 30 हजार 111 किसानों को 2 अरब 9 करोड़ 03 लाख 70 हजार रुपए की क्षतिपूर्ति धनराशि वितरित होनी है। कुछ फसलों पर बीमा राशि किसानों के खातों में पहुंच गई है, लेकिन उर्द, मूंगफली और तिल उत्पादक किसानों के बैंक खातों में क्षतिपूर्ति बीमा धनराशि नहीं पहुंची है। इसी को लेकर विधायक जवाहर लाल राजपूत ने मंगलवार को एक बार फिर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को प्रार्थनापत्र देकर जल्द झांसी जिले के किसानों को फसल बीमा धनराशि उनके खातों में पहुंचाने के लिए बीमा कंपनी को निर्देशित करने की मांग की है।

गरौठा विधायक जवाहर लाल राजपूत ने मंगलवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से भेंट कर उन्हें झांसी जिले में खरीफ की फसल नुकसान की एक बार फिर जानकारी दी। इसके पहले फसल बीमा के तहत झांंसी जिले के एक लाख तीस हजार किसानों को 209 करोड़ रुपए की क्षतिपूर्ति स्वीकृत हो चुकी है। विधायक जवाहर राजपूत ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को बताया है कि झांसी जिले में खरीफ नुकसान पर बीमा धनराशि स्वीकृत तो कर दी गई है, लेकिन उनके खातों में यह धनराशि नहीं पहुंची है। इसी को लेकर किसानों में रोष देखा जा रहा है। विधायक राजपूत ने जल्द ही किसानों के बैंक खातों में बीमा धनराशि जारी करने की मांग की।

गौरतलब है कि किसानों को हुए नुकसान पर गरौठा समथर विधानसभा से विधायक जवाहर लाल राजपूत ने सरकार को किसानों को प्राकृतिक आपदा से नुकसान की समस्या से अवगत कराया था। विधानसभा के भीतर सवाल लगाकर और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को खरीफ की फसलों उर्द, मूंग, तिल,ज्वार मक्का, बाजरा, मूंगफली व धान, सोयाबीन आदि के नुकसान की जानकारी के साथ क्षतिपूर्ति शीघ्र जारी कराने की मांग की गई थी। जवाहर लाल राजपूत ने बताया कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना किसानों को फसल के नुकसान की पूरी गारंटी देती है। झांसी एवं हमारी विधानसभा गरौठा के किसानों को खरीफ की फसल में भारी नुकसान हुआ था। इस पर हमने जनवरी माह में माननीय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और कृषि विभाग के प्रमुख सचिव से बात की थी। इस पर बैठक बुलाई गई और शासन के निर्देश पर नेशनल बीमा कंपनी ने झांसी जिले के किसानों को प्रथम दृष्ट्या हुए नुकसान पर 119 करोड़ 38 लाख रुपए की धनराशि जारी करने की स्वीकृति दे दी थी। यह धनराशि नुकसान के आंकलन से काफी कम थी। इस पर दोबारा प्रदेश स्तर पर पहल की गई जिसके बाद बाद झांसी जिले के किसानों को खरीफ की फसल की क्षतिपूर्ति धनराशि को बीमा कंपनी ने 119 करोड़ से बढ़ाकर 152 करोड़ कर दिया था। विधायक राजपूत ने बताया कि प्रधानमंत्री फसल बीमा का पूरा लाभ किसानों को दिलाने के लिए हाल ही में सवाल लगाकर यह मुद्दा विधानसभा सत्र के दौरान उठाया गया। इस पर माननीय मुख्यमंत्री जी ने संज्ञान लेकर बीमा कंपनी से वार्ता कर नुकसान की भरपूर भरपाई करने के निर्देश दिए। इसके बाद बीमा कंपनी ने झांसी जिले के लिए बीमा क्षतिपूर्ति धनराशि बढ़ाकर 209 करोड़ कर दी है। यह धनराशि झांसी जिले के 1 लाख 30 हजार 111 किसानों के खाते में पहुंचना शुरू हो गई है। सबसे अधिक क्षतिपूर्ति उर्द की फसल के नुकसान पर जारी की गई है। उर्द के लिए क्षतिपूर्ति राशि 125 करोड़ 49 लाख 14 हजार २३५ स्वीकृत की गई। इसे उर्द के 69 हजार 371 किसानों को वितरित किया जाएगा। इसके अलावा मूंग के लिए 18 लाख 85 हजार 261 रुपए स्वीकृत हुए जो 164 किसानों, मंगफली के लिए 23 करोड़ 83 लाख 92 हजार 796 रुपए क्षतिपूर्ति राशि 23 हजार 222 किसानों, मक्का के लिए 5 लाख 82 हजार 573 रुपए 56 किसानों, तिल के 59 करोड़ 35 लाख 77 हजार 501 रुपए 36 हजार 799 किसानों,ज्वार के लिए 4991 रुपए 5 किसानों, धान के लिए 854210 रुपए 491 किसानों व सोयाबीन के लिए 29133 रुपए कुल 3 किसानों को जारी करने की स्वीकृति हो गई है। विधायक राजपूत ने बताया कि झांसी जिले में 209 करोड़ 03 लाख 70 हजार रुपए 1 लाख 30 हजार 111 किसानों को प्रधानमंत्री फसल बीमा राशि जारी हुई है, जिसमें मूंग, मक्का, ज्वार, धान और सोयाबीन के किसानों के खातों में क्षतिपूर्ति धनराशि पहुंचा दी गई है। उर्द, मूंगफली और तिल उत्पादक किसानों के बैंक खातों में भी नेशनल बीमा कंपनी के अधिकारियों ने शीघ्र ही धनराशि भेजे जाने की बात कही है। यह अब तक खरीफ पर मिली सर्वाधिक क्षतिपूर्ति है।

LEAVE A REPLY