सावधान ! जियोमार्ट की फ्रेंचाइजी के नाम पर हो सकती है ठगी

0

मुम्बई। जियोमार्ट की फ्रेंचाइजी दिलवाने का झांसा देकर ठगी के कई मामले सामने आने के बाद, कंपनी एक्शन में दिखाई दे रही है। लोग ऐसे जालसाजों के चक्कर में ना उलझें, इसके लिए गुरूवार को कंपनी ने एक चेतावनी नोटिस जारी किया। नोटिस में कंपनी ने लोगों को आगाह किया है कि वे ऐसे धोखेबाजों से बचें जो जियोमार्ट के नाम पर फर्जी वेबसाइट बना कर लोगों को फ्रेंचाइजी या डीलरशिप दिलाने का झूठा वायदा कर रहे हैं।

रिलायंस के सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर इस चेतावनी को पब्लिश किया गया है। चेतावनी नोटिस में रिलायंस रिटेल ने कहा कि “हम वर्तमान में किसी भी डीलरशिप या फ्रेंचाइजी मॉडल को ना तो चला रहे हैं और न ही हमने किसी डीलर को नियुक्त करने के लिए किसी फ्रेंचाइजी या किसी एजेंट को नियुक्त किया है। साथ ही हम फ्रेंचाइजी नियुक्त करने के नाम पर किसी भी तरह की कोई भी धनराशि नहीं लेते हैं”

जियोमार्ट 3 करोड़ छोटे किराना दुकानदारों और 12 करोड़ किसानों को अपने नेटवर्क से जोड़ना चाहती है। जियोमार्ट पर रोजाना 4 लाख से अधिक ऑर्डर बुक किए जा रहे हैं और कंपनी की बाजार में जबर्दस्त साख है। कंपनी की इसी साख का फायदा यह धोखेबाज उठा रहे हैं। जियोमार्ट की फ्रेंचाइजी दिलवाने के सुनहरे सपने दिखा कर यह गिरोह, आम जन को शिकार बना रहे हैं।

नोटिस में कहा गया है कि कुछ जालसाज जियोमार्ट से जुड़े होने का ढ़ोंग कर फर्जी वेबसाइट बना रहे हैं, और जियोमार्ट सेवाओं की फ्रेंचाइजी देने के बहाने निर्दोष व्यक्तियों को धोखा दे रहे हैं। कंपनी ने कुछ फर्जी वेबसाइटों की सूची भी जारी की है।
1 jmartfranchise.in 6 jiomartfranchiseonline.com
2 jiodealership.com 7 jiomartsfranchises.online
3 jiomartfranchises.com 8 jiomart-franchise.com
4 jiomartshop.info 9 jiomartindia.in.net
5 jiomartreliance.com 10 jiomartfranchise.co

रिलायंस रिटेल ने ट्रेडमार्क का दुरुपयोग रोकने और अपनी साख को बचाए रखने के लिए जालसाज व्यक्तियों और गिरोहों के खिलाफ आपराधिक या नागरिक कार्यवाही करने की चेतावनी दी है। कंपनी ने जनता से अपील की है कि वे इस तरह के धोखेबाजों के खिलाफ रिपोर्ट कंपनी के कानूनी सेल से करें।


Warning: A non-numeric value encountered in /home/convbkxu/bundelkhandkhabar.com/wp-content/themes/Newspaper/includes/wp_booster/td_block.php on line 352

LEAVE A REPLY