गहलोत कैम्प के अभी भी मुश्किल हो रहा है पायलट से पहले...

गहलोत कैम्प के अभी भी मुश्किल हो रहा है पायलट से पहले जैसे संबंध बनाना

0

आस्था शर्मा


जयपुर। राजस्थान कांग्रेस गहलोत सरकार और पायलट के बीच हुआ मन मुटाव अब खत्म हो गया है। 18 बागी विधायकों के समर्थन से दोनों के बीच सुलाह तो हो गई थी, लेकिन सूचना आरही है की सलाह हो जाने के बाबजूद भी दोनों ने 48 घंटे बीत जाने तक कोई बात चीत नहीं कि है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे अभी तो पायलट से नाराज़ ही समझ आ रहे हैं।

जानकारी के अनुशार जब विधायक दल में दोनों पक्षों की सुलाह की बात चल रही थी तो उस वक़्त भी गहलोत ने कोई उत्साह नहीं दिखाया था।हालांकि गहलोत और उनके कैंप के लिए ये पूरे सियासी ड्रामें को इतनी आसानी से भूल पाना मुमकिन नहीं होगा।गहलोत ने अपने विधायकों को कुछ ऐसा कहकर समझाया, उन्होंने कहा की अब आपको फॉर्गिव एंड फॉरवर्ड वाला एजेंडा अपनाना होगा और सभी भूलों को माफ कर स्थिति को सामान्य रखना चाहिए।

राजस्थान सरकार में चल रही सियासी अन-बन काफी समय से चल रही थी। जो की 18 विधायकों ने राहुल गांधी और उनकी बहन प्रियंका गांधी के साथ बैठ कर अपनी बात सामने रख दोनों के बीच मामला सुलझा लिया गया था। इसी के चलते, सुलाह होने के बाद भी गहलोत कुछ नाखुश नज़र आ रहे हैं।पार्टी में अंदरूनी तनाव अभी तलक शायद खत्म नहीं हुआ है।ऐसे में सवाल यह उठता है की क्या सच में गहलोत,पायलेट की वापसी से खुश नहीं है।

सूत्रों से खबर सामने आई है की विधानसभा सत्र शुरू होने से पहले कांग्रेस दल की बैठक की जायेगी जिसमे सभी अपने विश्वास मत पेश कर सकते हैं।हालांकि अभी तक बैठक का कोई समय सुनिश्चित नहीं किया गया है।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY