चुनावी शोर में खो गई झांसी के कर्जदार किसान की मौत

0
झाँसी में सीपरी बाजार थाना क्षेत्र के पाडरी गाँव मसील के नोटिस से परेशान एक किसान ने खेत में फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली, कुछ दिन पहले तहसील की ओर से मृतक की बहन को रिकवरी और कुर्की का नोटिस भेजा गया था, मृतक के परिजनों का आरोप है कि अमीन ने रुपए जमा न करने पर पूरे परिवार को जेल भेजने की धमकी दी थी साथ ही अमीन पर रुपए लेने का आरोप भी परिवार के लोगों ने लगाया है, 
https://www.youtube.com/watch?v=1dNpG3qj86I
 
 
 झांसी सदर तहसील के पाडरी गांव के रहने वाले कल्लू की लाश गुरुवार की सुबह घर के पास खेत में लगे पेड़ पर लटकी मिली थी परिवार के लोगों के मुताबिक मृतक कल्लू ने कुछ वर्ष पहले अपनी जमीन बहन सीमा को बैची थी सीमा के मुताबिक अमीन ने बताया था कि जमीन की रजिस्ट्री में स्टाम कम लगा था इसकी रिकवरी होनी है, इसके बाद दो लाख चालीस हजार नौ सौ साठ रुपये का वसूली का नोटिस बहन के नाम आने पर मृतक कल्लू परेशान हो गया और जब उसे कर्ज चुकाने का कोई उपाय नजर नहीं आया तो उसने खुदकुशी कर दुनिया को अलविदा कहना ही ठीक समझा।
 
 
मृतक किसान कल्लू के परिजनों के मुताबिक तहसील से आये अमीन ने रुपए जमा न होने पर पूरे परिवार को जेल भेजने की धमकी दी थी, वहीं मृतक की बहन ने बताया कि भाई इस नोटिस के बाद चिंता में था और उसने इसी कारण खुदकुशी कर ली, मृतक के भाई तेज सिंह ने बताया कि अमीन 14 अप्रैल को आया था और उन से 3000 ले गया था, वह कह रहा था कि रुपए दे दो तो रुपए कम करा देंगे इस मामले में जिला प्रशासन ने परिवार के सभी आरोपों को सभी आरोपों का खंडन किया है तहसीलदार राकेश कुमार ने बताया कि कल्लू के नाम कोई भी कृषि भूमि नहीं थी, बहन को बैची जमीन की रजिस्ट्री में स्टाम की कमी होने पर नोटिस जारी किया गया था अमीन के रिश्वत लेने का मामला सामने नहीं आया है यह संभव है क्योंकि यह कोर्ट का मामला है और इसका निर्णय कोर्ट में ही होना है 

LEAVE A REPLY