बुंदेलखंड का यह डॉक्टर रिश्वत लेकर बदल देता था पोस्टमार्टम रिपोर्ट, लोकायुक्त ने किया गिरफ्तार

0

 पन्ना. जब पोस्ट मार्टम रिपोर्ट ही बदल दी जा रही हो तो ऐसे में अदालतों में मुक़दमे किस बुनियाद पर सच के साथ खड़े रहकर गुनाहगारों को सजा देकर जेल के भीतर धकेल पाएंगे. बुंदेलखंड के पन्ना जिले के में स्वास्थ्य उपकेंद्र के डॉक्टर को पोस्टमार्टम रिपोर्ट बदलने के एवज में रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया गया है. सागर लोकायुक्त की टीम ने डॉक्टर को एक लाख की रिश्वत लेते गिरफ्तार किया है। आरोप है कि डॉक्टर ने पीएम रिपोर्ट बदलने के एवज में दो लाख रुपए की रिश्वत मांगी थी। सोमवार को दोपहर बाद एक लाख रुपए लेकर फरियादी पहुंचा था, तभी लोकायुक्त की टीम ने डॉक्टर को गिरफ्तार कर लिया। अब डॉक्टर की गिरफ्तारी के बाद सवाल उठने लगे हैं कि इस डॉक्टर ने जो पोस्ट मार्टम रिपोर्ट अब तक तैयार की हैं, क्या वह भी इसी तरीके से तैयार तो नहीं की गईं थीं.

 

मामला पन्ना जिले के शाहनगर थाना क्षेत्र का है, जहां शासकीय उप स्वास्थ्य केंद्र में पदस्थ डॉ. निर्मल डिसूजा फरियादी से पीएम रिपोर्ट बदलने के एवज में 2 लाख रुपए की मांग कर रहा था। असल में, पीडि़त छतरपुर निवासी महेश सिंह की लड़की ने अपने ससुराल पन्ना के शाहनगर में पारिवारिक कलह से परेशान होकर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी।

 

पीएम रिपोर्ट के तथ्यों को सही करने की मांग

इस पर लड़की के पिता ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट में सही तथ्य सामने नहीं आने पर डॉक्टर से रिपोर्ट में सुधार करने की मांग की थी। इस पर डॉक्टर ने दो लाख रुपए में सौदा तय किया।

सोमवार को एक लाख रुपये की रिश्वत लेते हुए पकडे गए हैं जहाँ उन्हें लोकायुक्त पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तारी के बाद भी डॉक्टर को इस पर कोई मलाल नहीं दिखाई दे रहा था।छतरपुर निवासी महेश सिंह की लड़की जो कि पन्ना जिले में ब्याही थी, जिसने पारिवारिक कलह से परेशान होकर ससुराल में फांसी लगा ली थी।उसी मामले मे जांच और पीएम रिपोर्ट सुधरवाने के एवज में मृतक लड़की के पिता से डॉक्टर ने 2 लाख रुपए की मांग की थी। जिसकी शिकायत पर सागर लोकायुक्त ने प्लानिंग के तहत डॉक्टर को दबोच लिया।

LEAVE A REPLY