ललितपुर में अस्पताल में तड़प -तड़प कर मर गया मरीज, इलाज करने...

ललितपुर में अस्पताल में तड़प -तड़प कर मर गया मरीज, इलाज करने कुर्सी से नहीं उठा डॉक्टर

0

@राहुल श्रोती

ललितपुर।  प्रदेश में योगी सरकार के रामराज में सरकारी अस्पताल की प्रशासनिक लापरवाही ने एक मरीज की जान ले ली। मरीज जहर के सेवन का शिकार था। वह पूरे होशो हवास में अस्पताल तक तो पहुंच गया, लेकिन डॉक्टर्स उसे देखने से इनकार कर दिया। मरीज के परिजन डॉक्टरों के पैर पकड़कर इलाज करने की गुहार लगाते रहे, मगर कोई उपचार नहीं किया गया। दो घंटे तक अस्पताल के बाहर इंतज़ार करने के बाद आखिरकार मरीज की मौत हो गई।

अपनी आंखों के सामने ही अपने पिता और पति की खोने वाले परिजनों का अब बुरा हाल है। उनकी मानें तो उनके मुखिया की मौत का गुनाहगार कोई और नहीं बल्कि अस्पताल का वह डॉक्टर ही है जो लाख विनती के बाद भी मरीज को देखने के लिए तैयार नहीं हुआ।


यह घटना घरेलू कलह में सौजना के गांव उल्दन कला के ग्रामीण की है जिसने जहर खा लिया। जहर खाने के फौरन बाद उसके परिजन उसे लेकर अस्पताल पहुंच गए। सुबह दस बजे पहुंचे मरीज को डॉक्टरों ने देखा तक नहीं। स्टाफ ने अस्पताल के बाहर ही नमक का पानी पिलाने की बात कहकर पल्ला झाड़ लिया। परिजन यहां क्या करते, उनके पास पानी पिलाने को बर्तन तक नहीं था। शौचालय की बाल्टी का ही सहारा था, लेकिन जब वह उठाकर लाये तो स्टाफ ने बाल्टी लेने से भी मना कर दिया। आखिरकार मरीज ने इलाज के अभाव में दम तोड़ दिया।


वहीं डॉक्टर की अपनी ही दलील है. दरअसल माईएज की मौत के बाद परिजनों ने अस्पताल में तोड़ फोड़ भी कर दी। इस तोड़फोड़ के बाद डॉक्टर का अंदाजे बयां भी देख लीजिए जिसे अपनी लापरवाही का जरा भी मलाल नहीं, लेकिन परिजनों पर कार्रवाई की फिक्र जरूर है।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY