सीएम योगी ने मंत्रियों से कहा, ’15 दिन के भीतर दें अपनी आय और संपत्ति का ब्यौरा’

0

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी ने शपथ ग्रहण के बाद पहली कैबिनेट बैठक में अपने कैबिनेट सहयोगियों को निर्देश दिया कि वे 15 दिन के भीतर अपनी आय और चल-अचल संपत्ति का पूरा ब्यौरा पार्टी एवं सरकार को उपलब्ध कराएं.
योगी ने अपनी कैबिनेट की पहली बैठक की, जिसमें सदस्यों ने एक दूसरे को परिचय दिया. बैठक के बाद कैबिनेट मंत्री श्रीकांत शर्मा और सिद्धार्थनाथ सिंह ने संवाददाताओं को बताया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के भ्रष्टाचार को समाप्त करने के संकल्प के तहत मुख्यमंत्री ने सभी मंत्रियों को अपनी आय और चल अचल संपत्ति का ब्यौरा उपलब्ध कराने को कहा है.
केंद्र के बड़े नेता देंगे ट्रेनिंग
उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया, ‘सभी मंत्रियों को आय, चल-अचल संपत्ति का पूरा ब्यौरा 15 दिन में संगठन को और मुख्यमंत्री के सचिव को देना है.’ दोनों मंत्रियों ने बताया कि नए विधायकों के प्रशिक्षण के लिए कैबिनेट मंत्री सुरेश खन्ना के नेतृत्व में एक कमेटी बनेगी, जिसमें प्रयास होगा कि सभी विधायकों की भलीभांति ट्रेनिंग हो. ‘केंद्र के भी कुछ बड़े नेता आ सकते हैं। वे कक्षाएं लेंगे.’ उन्होंने बताया कि एक और कमेटी बनाने का फैसला किया गया है, जो देखेगी कि 325 विधायकों के साथ मंत्रिपरिषद के लोग किस प्रकार संपर्क में रहें और उनके क्षेत्र में जाकर किस तरह संपर्क रख सकें. संगठन और सरकार के तालमेल पर भी चर्चा की गई. यह भी पढ़ें- योगी आदित्यनाथ बने यूपी के सीएम, दो डिप्टी सीएम और एक मुस्लिम समेत 44 मंत्रियों ने ली शपथ
‘उत्तम प्रदेश’ बनाने का संकल्प
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा चुनावी रैलियों में भाजपा की सरकार बनने की स्थिति में पहली कैबिनेट बैठक में ही कुछ फैसले करने के उल्लेख पर दोनों मंत्रियों ने स्पष्ट किया कि आज की बैठक औपचारिक कैबिनेट बैठक नहीं बल्कि परिचय बैठक थी. ‘जो कहा गया है, पहली ही कैबिनेट में फैसला होगा.’ शर्मा ने बताया कि मुख्यमंत्री ने सभी कैबिनेट सदस्यों से आग्रह किया कि ‘जनादेश’ विकास के लिए मिला है. ये जनादेश बिजली, पानी, सडक, कानून व्यवस्था, शिक्षा, स्वास्थ्य और किसान की बदहाली दूर करने तथा विकास और सुरक्षा के लिए मिला है. साथ ही मुख्यमंत्री योगी ने मंत्रिपरिषद के सहयोगियों को नसीहत दी कि वे अनावश्यक टिप्पणी से बचें ताकि किसी की भावना आहत न हो. उत्तर प्रदेश ‘उत्तम प्रदेश’ बने, यही हम सबका संकल्प है.
गोरक्षपीठाधीश्वर और कट्टर हिन्दुत्व का चेहरा माने जाने वाले सांसद योगी आदित्यनाथ ने आज (रविवार) उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली. राज्यपाल राम नाईक ने केशव प्रसाद मौर्य तथा डॉक्टर दिनेश शर्मा को उपमुख्यमंत्री पद तथा 44 विधायकों को मंत्री पद की शपथ दिलाई. नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह समेत तमाम वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी में राज्यपाल राम नाईक ने कांशीराम स्मृति उपवन में आयोजित भव्य समारोह में नई सरकार के मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्रियों तथा मंत्रियों को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई. इनमें 22 कैबिनेट मंत्री, नौ राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार), 13 राज्यमंत्री शामिल हैं. मंत्रिपरिषद में राज्य मंत्री के रूप में क्रिकेटर से राजनेता बने मोहसिन रजा को भी शामिल किया गया है जो सरकार में एक मात्र मुस्लिम चेहरा है.

LEAVE A REPLY