CM योगी बचायेंगे तालाबों का जीवन, शपथ के फ़ौरन बाद तालाब विकास प्राधिकरण के गठन की शुरुआत

0

बाँदा. सूखे की त्रासदी भोग रहे बुंदेलखंड से उठी आवाज़ को UP के CM योगी आदित्यनाथ ने संबल दिया है. जहां विश्व जल दिवस के मौके पर दुनिया भर में पानी सहेजने को लेकर चिंता की जा रही है वहीँ बीजेपी की यूपी में सरकार बनते ही सीएम योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश में तालाब विकास प्राधिकरण के गठन को लेकर कार्यवाही शुरू कर दी है। उल्लेखनीय है बीजेपी ने गत 28 जनवरी को अपने संकल्प पत्र/ घोषणापत्र में सरकार बन जाने के बाद इसके गठन की बात कही थी। सरकार की इस पहल से मरते तालाबों को संजीवनी तो मिलेगी ही साथ ही जो तालाब सूखकर विलुप्त हो जाने क स्तिथि में हैं उनका भी पुनुरुद्धार हो जायेगा.

दिल्ली के वरिष्ठ पत्रकार पंकज चतुर्वेदी ने बताया कि सरकार के एक सीनियर अधिकारी ने सीएम के 100 दिन एक्शन प्लान में तालाब विकास प्राधिकरण गठन को शामिल करने की जानकारी दी है। गौरतलब है बाँदा के समाजसेवी आशीष सागर ने 30 अगस्त 2014 को अपने लिखित मांग पत्र में प्रदेश के तालाबों पर चिंता जाहिर करते हुए राजस्व रिकार्ड में दर्ज लेकिन धरातल पर विलुप्त होते तालाब,उनके अवैध कब्जों पर सख्ती से कार्यवाही की मांग की थी।

 

बुंदेलखंड के 2969 तालाबों पर हैं अवैध कब्जे

यूपी बुन्देलखण्ड से ही सूचनाधिकार से मिली जानकारी मुताबिक 2969 तालाबों पर  अवैध कब्जे है, करीब एक लाख जलराशियाँ इसी तर्ज पे जमीदोज हो रही है. इसके निदान के लिए तालाब विकास प्राधिकरण बनाए जाने की मांग की गई थी। ये पत्र प्रधानमंत्री मोदी,केन्द्रीय जल संसाधन मंत्री उमा भारती, सीएम यूपी, नगर विकास आयुक्त प्रकाश सिंह,सचिव ग्राम्य विकास विभाग यूपी को प्रेषित किये गए थे।

 

पांच सदस्यीय कमेटी का हुआ था गठन

तालाबों के संरक्षण के लिए तत्कालीन सीएम अखिलेश ने बुन्देलखण्ड पेयजल एक्सपर्ट कमेटी में समाजसेवी को 5 सदस्य के साथ शामिल किया था। इसके अलावा बीते साल के भयंकर सूखे में 1 जुलाई 2016 से सात जुलाई तक बुन्देलखण्ड से लखनऊ  तक की पानी यात्रा भी तालाब विकास प्राधिकरण के गठन की मांग के साथ की गई थी। यात्रा में जिले के डीएम,एसडीएम,को ज्ञापन दिया गया। इस पानी यात्रा में 168 घंटे और 70 गाँव से निकलते हुए आठ जुलाई को लखनऊ  में राज्यपाल को मांग पत्र दिया गया। समाज सेवी ने बताया कि दिल्ली के पानी लेखक पंकज चतुर्वेदी,अधिवक्ता संजय कश्यप,वरिष्ठ पत्रकार पियूष बबेले,जल लेखक सुधीर जैन,रामबाबू तिवारी (शोध छात्र,नलनी मिश्रा आदि इलाहाबाद युनिवर्सिटी,सुदीप साहू आदि ने इस अभियान में सक्रीय सहभागिता की थी.

 

तालाबों का जीवन सुरक्षित करने महत्वपूर्ण होगा मुख्यमंत्री योगी का कदम

बीजेपी सीएम योगी जी का ये जनहित कारी कदम प्रदेश की जल संरचना तालाब के भंडार को बचाने में सहायक होगा. मालूम रहे बुन्देलखण्ड अति सुखाप्रभावित क्षेत्र है जहाँ पानी की पुरातन परंपरा को यहाँ चन्देल शासकों ने जीवंत किया था. बानगी के लिए बाँदा के पहाड़ी कालिंजर दुर्ग के 5 तालाब में से एक कोटि तीर्थ,अशोक नगर चंदेरी के दुर्ग में बना विशाल तलाब और महोबा के प्राचीन तालाब अमूल्य धरोहर है.सीएम का ये रचनात्मक कार्य दूरगामी परिणाम लायेगा बशर्ते तालाब विकास प्राधिकरण की कमान लचर सरकारी एजेंसी की तस्वीर न बने.

LEAVE A REPLY