सीएम हाउस के बाहर टॉवर पर चढ़ गईं आशा कार्यकत्रियां, पुलिस के साथ गिरीं नीचे

0

@बुन्देलखण्ड खबर

भोपाल. मुख्यमंत्री आवास के पास अपनी मांगों लेकर धरने पर बैठीं आशा और ऊषा कार्यकत्रियां का धैर्य उस वक्त टूट गया जब उनके कई बार सूचना भेजने के बाद भी उनकी मांगों को सुनने कोई नहीं पहुंचा। इसको लेकर भडक़ी एक आशा कार्यकत्री टॉवर पर चढ़ गई। उसको बचाने के लिए पुलिस भी उसके पीछे चढ़ गई और इसी हड़बड़ी में महिला टावर से नीचे गिरकर घायल हो गई।

उसके साथ कुछ पुलिसकर्मी भी नीचे गिरने से घायल हो गए। यह कार्यकत्रियां नियमितीकरण और मानदेय बढ़ाने को लेकर धरने पर बैठी थीं। धरने के बाद पुलिस ने कुछ कार्यकत्रियों को हिरासत में ले लिया इसके खिलाफ कांग्रेस की मीडिया विभाग की अध्यक्ष शोभा ओझा ने इसके खिलाफ कड़ी प्रतिक्रिया दी है।

बताया गया है कि दो दिन से धरना कर रही कार्यकर्ताओं की जब किसी ने नहीं सुनी तो अपनी मांगो को लेकर विरोध प्रदर्शन करने कुछ आशा कार्यकर्ता टॉवर पर चढ़ गई। जिसे उतारने के लिए पुलिस समेत कुछ लोग टॉवर पर चढ़े, लेकिन इस दौरान टॉवर से उतरे समय महिला गिर गई। साथ ही दो और लोग भी टॉवर से गिरकर गंभीर जख्मी हो गए। इस दौरान नाराज कार्यकर्ताओं की पुलिस से झड़प भी हुई। एक महिला के टॉवर से गिरने की घटना के बाद प्रदर्शनकारी आक्रोशित हो गए और इसी को लेकर उनकी पुलिस से झड़प हो गई।

  • आशा कार्यकर्ताओं के इस प्रदर्शन को देखते हुए सरकार की और से बातचीत की कोई पहल न करते हुए पुलिस को प्रदर्शनकारियों को हटाने की जिम्मेदारी सौंप दी गई। इसके बाद भारी हंगामे की स्तिथि बन गई। बुरी तरह खदेड़ते हुए एक एक महिला को पकडक़र जबरन पुलिस वैन में ठूंसा गया, सडक़ों पर महिलाये दौड़ती नजर आई, पुलिस का इस तरह रवैया देख लोग भी हैरान हो गए। सभी आशा कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर शाहजानी पार्क ले जाया गया और पार्क को ही जेल बना दिया।

LEAVE A REPLY