50 हजार की घूस में सेट हुए परीक्षा पर्यवेक्षक, कैमरे भी खामोश

0

FB_IMG_1520355286054रई । बुंदेलखंड विश्व विद्यालय की परीक्षाएँ 6 मार्च से पारम्भ हो गईं । पहले दिन आर्ट साइड का पेपर था , 7 को विज्ञान वर्ग की परीक्षा है । सरकार परीक्षा को पूरी सख्ती के साथ सम्पन्न कराने के इरादे भले जता रही हो पर ऐसा लगता नही कि यहाँ उसकी मंशा पूरी होने जा रही है । तीन जिलों का दायित्व संभाले कुल सचिव सी पी तिवारी की भी सारी रणनीति धरी की धरी रह गई । कारण है कि यहाँ हर साख पर उल्लू जो बैठा है । जो परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं , इस बार वहाँ विश्व विद्यालय की ओर से एक पर्यवेक्षक तैनात किया गया है ताकि केन्द्रों पर नकल की गुंजाइश को खत्म किया जा सके लेकिन विश्व विद्यालय की यह रणनीति पहले दिन ही धड़ाम हो गयी। कई पर्यवेक्षक प्रबन्धकों के लालच मेँ फंस गए । सूत्रों के अनुसार पर्यवेक्षकों के सामने जो दाना डाला गया है , उसे चुगने को वह खुशी – खुशी तैयार हो गए हैं । नकल कराने के लिए 50 हजार से एक लाख तक की सौदेबाजी हुई है । यदि पर्यवेक्षक कर्तव्य परायण होते तो शायद इस बार निजी कालेजों मेँ नकल होना मुश्किल रहता । दोनों ओर कैमरे लगे होने से पुरानी करामात इस बार निष्प्रभावी कर दी गयी है । यदि कैमरे चलाने पर सख्ती लागू रही तो फिर उनके पास एक ही चारा बचेगा कि बोल – बोल कर नकल कराई जाये । पहले दिन यही तरीका अपनाया गया । पर्यवेक्षक का डर समाप्त होने से कक्षों मेँ बोल -बोलकर नकल कराई गयी , इस दौरान फ्लाइंग स्क्वाएड का डर जरूर सताता रहा । अब उन्हें भी साधने की युक्ति सोची जा रही है । सपा – बसपा की तरह प्रबन्धकों के बीच भी परीक्षा कराने का सम्झौता हो गया । इस वक्त वे सारे गिले- शिकवे मजबूरी में भुलाकर एक – दूसरे के मददगार नजर आ रहे हैं । उन्हे अपने रिजल्ट की चिन्ता सता रही है । कुछ पर्यवेक्षकों का जमीर किस कदर डोल गया कि वह प्रबन्धक के घर ही खातिरदारी करवाने पहुँच गए । जाहिर है कि उन्हें जिस दायित्व के लिए भेजा गया है , ऐसे मेँ वह तो पूरा होने से रहा ।

शुचिता के साथ डिग्री कालेजों की परीक्षाएँ सम्पन्न कराने के लिए अब जिला प्रशासन के ऊपर भार ज्यादा आ गया है । नकल माफियाओं के चक्र व्यूह को तोड़ने के लिए उसे अपने लोगों के साथ ही उचित रणनीति बनानी होगी क्योंकि कई निजी कालेजों ने विश्व विद्यालय की लालच भरी कमजोर नस को पहचानकर पहले दिन ही अपना खेल शुरू कर दिया है ।

LEAVE A REPLY