भाजपाई भतीजे के लिए दौड़ी चली आयी बसपाई चाची की ममता, अनुराधा...

भाजपाई भतीजे के लिए दौड़ी चली आयी बसपाई चाची की ममता, अनुराधा बोलीं राजनीति नहीं, माँ का फर्ज निभाने आयी

0

 

झांसी। मंगलवार को बुंदेलखंड की सियासत ने भावनाओं का एक अनोखा रंग देखा। बसपा की कद्दावर नेता अनुराधा शर्मा को अपने भतीजे के नामांकन कार्यक्रम में भाजपा के मंच पर जा पहुंची। यह सोचे बिना कि पार्टी क्या कहेगी। बसपाई चाची जब भाजपाई भतीजे को आशीर्वाद देने पहुंची तो भतीजे की आँखों से आंसू निकल आये। चाची और भतीजे का यह भावुक मेल कुछ सियासी लोगों को रास नहीं आया और उन्होंने रिश्तों पर हमला बोलते हुए सियासत शुरू कर दी। मामला तूल पकड़ने लगा तो चाची ने सफाई दी। कहा – बेटे का हौसला बढ़ाना मेरा फर्ज है। गठबंधन के प्रत्याशी का चुनाव प्रचार मैं लगातार कर रही हूँ।

बहुजन समाज पार्टी की नेता और बसपा के राष्ट्रीय महासचिव सतीश मिश्रा की समधन अनुराधा शर्मा ने पार्टी छोड़ने की खबरों का खंडन किया। उन्होंने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि वे बीजेपी में नहीं जा रही हैं और बसपा के प्रतिबद्ध हैं। दरअसल मंगलवार को भाजपा प्रत्याशी अनुराग शर्मा के नामांकन में मंच पर पहुंचने के बाद से कयास लगाए जा रहे थे कि वे पार्टी छोड़ रहीं हैं। उन्होंने मीडिया को सफाई देते हुए कहा कि अनुराग उनका बेटा है और अपने बेटे के नामांकन में वे मां के तौर पर उन्हें आशीर्वाद देने गईं थी।

कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ के सवाल पर सफाई देते हुए वे कहती हैं कि मुलायम सिंह यादव जी ने भी मोदी जी की तारीफ की थी। किसी नेता की कोई बात पंसद आने का यह मतलब नहीं कि आप पार्टी छोड़ रहे हैं। मायावती जी के विकास और कानून-व्यवस्था की सभी लोग तारीफ करते हैं। इंदिरा गांधी की इंटरनेशन पॉलिसी की तारीफ करते हैं।

भाजपा में शामिल होने के सवाल पर उन्होंने कहा कि मैं बीजेपी क्यों जॉइन करूंगी जबकि मैं चुनाव नहीं लड़ने का ऐलान कर चुकी हूं। मेरा बेटा खड़ा हुआ है, पहली बार इस फील्ड में आ रहा है उसका हौसला अफजाई करने और मां का कर्तव्य निभाने के लिए मैं बीजेपी के मंच पर दिखी हूं। मेरा पार्टी बदलने का कोई इरादा नहीं है। वे गठबंधन प्रत्याशी के चुनावी कैम्पेन में लगातार हिस्सा ले रही हैं।

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY