एक भारतीय डाक्टर ने ढूंढा आईसीयू में ज्यादा मौतों की वजहें, मृत्यु को कम करने का बताया उपाय

0

झांसी। अमेरिका में रहने वाले भारतीय मूल के डाक्टर आदित्य ने आईसीयू में मृत्यु को कम करने को लेकर काफी महत्वपूर्ण काम किया है। उन्होंने रिसर्च के माध्यम से निष्कर्ष निकाला है कि सप्ताह के और दिनों की अपेक्षा वीकेंड को आईसीयू में ज्यादा मौतें होती हैं। उनका रिसर्च आईसीयू में डेथ को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।
अमेरिका के लाॅस एंजेल्स में आयोजित वार्षिक चेस्ट मीटिंग में उनका यह रिसर्च और आईसीयू प्रबंधन को लेकर दूसरे महत्वपूर्ण शोध कार्य को काफी सराहा गया है। रिसर्च के अनुसार वीकेंड में बहुत से मरीज अनियंत्रित बीपी, स्ट्रोक, कई प्रकार के हार्ट अटैक और हेड इंजुरी से पीड़ित होकर इलाज के लिए आईसीयू में भर्ती होते हैं। आमतौर पर आईसीयू में गंभीर रूप से बीमार मरीज ही आते हैं। कई कारणों से अस्पताल में इलाज का तरीका काफी लंबा होता है, जैसे तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता के केस में देखा गया। डाक्टर आदित्य आईसीयू में केस हैंडल करने के मामले में दूसरे डाक्टरों से काफी अलग हैं।
मूलतः भारत के आंध्र प्रदेश के रहने वाले डाक्टर आदित्य यूनिवर्सिटी आॅफ आरकांसास फाॅर मेडिकल साइंसेज में पल्मेरी मेडिसीन डिवीजन के चीफ फेलो हैं। डाक्टर आदित्य फ्लोरिडा हाॅस्पिटल से इंटरनेल मेडिसीन के रेजिडेंज रहे हैं। उन्होंने कई स्तरों पर मेडिकल क्षेत्र में महत्वपूर्ण कार्य किया है। इनमें सेप्सिस की पहचान और रोकथाम सबसे महत्वपूर्ण है। सेप्सिस एक प्रकार का खतरनाक इंफेक्शन है, इसमें ब्लड प्रेशर धीरे-धीरे कम हो जाता है, जिससे रोगी की मौत हो जाती है। डाक्टर आदित्य ने इस प्रकार की बीमारियों की रोकथाम को लेकर काफी मौलिक कार्य किया है, जिनका कई जनल्र्स में प्रकाशन हुआ है। उनका पेपर जर्नल्स आॅफ हाॅस्पिटल मैग्जीन में भी प्रकाशित हुआ है। डाक्टर आदित्य ने अपने काम को आईसीयू में होने वाले मौतों को कम करने पर फोकस किया है, जिससे मरीज पर आईसीयू में भर्ती के दौरान होने वाले खर्च को कम किया जा सके।

LEAVE A REPLY