हमीरपुर के दो ग्रामों में डेंगू का कहर, 6 लोगों की मौत के बाद जागा प्रशासन

0


हमीरपुर, यूपी के हमीरपुर जिले के दो गांव डेंगू की चपेट में आ जाने से
प्रशासनिक अफसरों में हड़कंप मच गया है। डीएम के निर्देश पर एसडीएम और
स्वास्थ्य महकमा एक्शन में आ गया है। डेंगू प्रभावित इलाके में ग्रामीणों
का हाल लेने पहुंचे एसडीएम को डेंगू से मरने वालों की सूची दिखायी गयी तो
वह स्तब्ध रह गये। अभी तक डेंगू से 6 लोगों की मौत हुई है।

यह है पूरा मामला –
-पिछले कई दिनों से हमीरपुर जिले के  बिंवार क्षेत्र के उमरी व भरखरी
गांव में डेंगू का कहर बरप रहा है। सैकड़ों लोग इस बीमारी की चपेट में
है।
-बताया जाता है कि उमरी गांव के मंगल सिंह, लाल बहादुर, राजेन्द्र प्रसाद
प्रजापति की डेंगू से मौत हो कानपुर में इलाज दौरान हो चुकी है।
-इससे पहले इसी गांव के प्रताप सविता, प्रागीम लाल कुशवाहा की इलाज के
दौरान मौत हुयी थी। प्रागीलाल की सैफई मेडिकल कालेज में मौत हुई।
-बताते है कि एसडीएम मौदहा एसके मिश्रा ने डेंगू प्रभावित उमरी व भरखरी
गांव का निरीक्षण किया। गांव में गंदगी देख वह गुस्से से भड़क गये।
-ग्रामीणों की शिकायत पर उन्होंने प्रधान को फटकार लगाई। पाइपलाइन लीकेज
देख एक्सईन जलसंस्थान को तत्काल एक्शन लेने को कहा।
-एएनएम सेंटर को दूसरी जगह बनवाने के लिये एसडीएम ने लेखपाल से कहा कि
तुरंत इसके लिये जमीन उपलब्ध करायी जाये।
-ग्रामीणों की शिकायत पर जिलास्तरीय डाक्टरों की टीम डेंगू प्रभावित
ग्रामों में बीमारों का इलाज करने के भी सीएमओ हमीरपुर को निर्देश दिये।
-निरीक्षण में बंद एएनएम सेंटर व आयुर्वेद अस्पताल सालों से बंद देख भड़क
गये। उन्होंने इन अस्पतालों को सही कराने के निर्देश दिये।
-एसडीएम को एक्शन में देख ग्राम प्रधान सुधा पालीवाल के पति अनिल पालीवाल
ने तत्काल जेसीबी मशीन से नाले की सफाई शुरू करायी।

डेंगू के मामले की रिपोर्ट देख एसडीएम दंग –
-एसडीेएम एसके मिश्रा को ग्रामीणों ने कानपुर, सैफई व झांसी मेडिकल कालेज
में भर्ती बीमारों की सूची दिखायी जिसमें डेेंगू के लक्षण पाये गये।
-एसडीएम ने डेंगू की रिपोर्ट देख कहा कि वाकई इन गांवों में डेंगू व
विचित्र बुखार का प्रकोप है। उन्होंने मच्छरों के सफाया करने के निर्देश
दिये।

घर-घर जांच में मिले डेंगू के लार्वा
-जिला मलेरिया अधिकारी सत्यप्रकाश ने शनिवार को बताया कि गंदगी की वजह से
उमरी गांव में हर-हर घर में डेंगू के लार्वा जांच दौरान पाये गये जिन्हें
ग्रामीणों के सामने नष्ट किया गया।
-उनका कहना है कि घर-घर मच्छरों के सफाये के लिये डीडीटी का छिड़काव
कराया गया। फागिंग भी करायी गयी। लोगों को दवायें दी गई।

क्या कहते है जिला मलेरिया अधिकारी-
-जिला मलेरिया अधिकारी सत्यप्रकाश का कहना है कि उमरी गांव दो सौ से
ज्यादा घरों में डेंगू के लार्वा पाये गये हैै जो गंदगी की देन है।
-उनका कहना है कि प्रधान लार्वा देख स्वास्थ विभाग की टीम पर भड़क गया
था। क्योंकि गांव में सफाई व्यवस्था पूरी तरह से धड़ाम है।

LEAVE A REPLY