केन्द्रीय दल ने लिया फसल नुकसान का जायजा

0

081115n8

अल्प वर्षा से खरीफ मौसम 2015 में सूखे की स्थिति और फसल नुकसान का आकलन करने के लिए आये केन्द्रीय अध्ययन दल ने आज सागर जिले के ग्रामों का दौरा किया। दल के सदस्यों ने श्री ए.के.श्रीवास्तव के नेतृत्व में ग्राम झिला और बटयावदा का दौर कर ग्रामीणों से चर्चा की।

ग्राम झिला में ग्रामीणों ने केन्द्रीय अध्ययन दल को बताया कि गाँव में 90 प्रतिशत रकबे में सोयाबीन और 10 प्रतिशत रकबे में उड़द की बोनी की गई थी, जिसे सूखे से नुकसान पहुँचा है। दल ने ग्रामीणों से पेयजल व्यवस्था और गाँव में मिलने वाली बिजली के बारे में पूछा।

ग्राम बटयावदा में अध्ययन दल ने ग्रामीणों से सिंचाई की स्थिति की जानकारी ली। दल ने किसान क्रेडिट कार्ड की जानकारी भी ली। ग्रामीणों ने बताया कि उनका फसल बीमा प्रीमियम बैंक द्वारा काटा गया है किन्तु उन्हें कृषि बीमा क्लेम नहीं मिला।

केन्द्रीय अध्ययन दल ने ग्रामीणों को समझाइश दी कि वे मनरेगा में काम करें। साथ ही गाँव में दुग्ध उत्पादन बढ़ाये। कलेक्टर ने जिले में फसलों को हुए नुकसान की जानकारी दी। दल ने दौरे के बाद कृषि, सिंचाई, उद्यानिकी, मछली पालन, पशुपालन और ग्रामीण विकास विभाग के अधिकारियों से चर्चा की।

दमोह जिले के ग्राम कुमेरिया में

केन्द्रीय दल ने दमोह जिले के विभिन्न गाँव का भी आज दौरा किया। दल ने ग्राम कुमेरिया में ग्रामीणों से चर्चा की। दल ने जिले में पेयजल, गाँव में मिलने वाली बिजली और खाद-बीज की उपलब्धता की जानकारी ली। ग्रामीणों ने बताया कि गाँव में सिंचाई के साथ पेयजल की भी समस्या है। हेण्डपम्पों का जल-स्तर कम हो गया है।

दल ने बोई गयी फसलों और किसान क्रेडिट कार्ड की जानकारी भी प्राप्त की। दल के सदस्यों ने ग्रामीणों को समझाइश दी कि वे कृषि बीमा का लाभ लेने अधिसूचित फसलों की बोवनी करें।विधायक श्री लखन पटेल ने भी दल से चर्चा की।

LEAVE A REPLY