किसानों के लिए फूट गई मासूम मन्नत की गुल्लक

0

IMG_0875_resized

बांदा। बुंदेलखंड के बांदा में फसल तबाह होने के बाद ख़ुदकुशी करने वाले किसानो के परिजन जुटे तो उनकी मदद को कई हाथ आगे आ गए. सरकार ने किसानों की सुध नहीं ली तो समाजसेवी आशीष सागर ने किसान चैरिटी शो जैसा अनोखा कार्यक्रम रच कर मदद की की नै इबारत लिख दी. लोगों ने जहाँ अपनी हैसियत के मुताबिक किसान परिवारों के लिए आर्थिक धन राशि जुताई तो वहीँ एक नन्ही सी बच्ची ने अपनी मिट्टी की गुल्लक में जमा रुपयों को किसान परिवारों को समर्पित कर दिया. किसान चैरिटी शो में पहुंची नन्ही बच्ची मन्नत ने किसान आत्महत्या की मजबूरियों की व्यथा सुनी तो वह व्यथित हो गई. उसके पास देने को कुछ नहीं था, लेकिन उसने जो देने का मन बना लिया वह कोई शायद सोच भी नहीं सकता था. मन्नत ने अपनी मिट्टी की गुल्लक में दो साल से जमा किये जा रहे रुपयों को पीड़ित किसान परिवारों को देने का मन बना लिया। फिर क्या था वह अपने माता पिता के साथ गुल्लक लेकर चेरिटी शो में पहुँच गई. वहां  सामने अपनी इक्छा प्रकट कर दी और फिर गुल्लक को वहीँ मंच पर फोड़ दिया. इस द्रद्रस्य को देखकर सब भावुक हो गए. लोगों की आँखों से आंसू छलक  पड़े. यह एक मासूम का बड़ा मैसेज था जो आँख  करने के लिए काफी था. मन्नत की गुल्लक से 5700 रूपये मिले जो उसने अन्नदाता की आखत के रूप में आत्महत्या करने वाले किसानों के परिजनों को दे दिया. मन्नत की इस पहल के बाद मौजूद लोगों ने भी किसानों के लिए हाथ खोलने शुरू कर दिए। यह काबिले तारीफ़ सीन था।  मन्नत तुम्हें सलाम!

LEAVE A REPLY